घर पर आसानी से बनाये  तिल के लड्डू की रेसेपी, जाने विधि

घर पर आसानी से बनाये  तिल के लड्डू की रेसेपी, जाने विधि
 इस ठंड में यदि आपको सर्दी से दूर रहना है तो आप गुड़ खाकर अपनी स्वास्थ्य को गुड बना सकते हैं. सर्दी में शरीर को ऊर्जा देने के साथ ही यह गर्माहट भी देता है. इसके अतिरिक्त तिल के लड्डू, गजक, मूंगफली व मेवे को अपने खानपान में शामिल करके ठंड से लड़ सकते हैं. शहर का मार्केट भी मौसम के सर्द मिजाज को देखते हुए तैयार हो चुका है. जगह-जगह तिल के लड्डू व गजक बिक रहे हैं, जिसकी खरीददारी खूब हो रही है.

मैदानी इलाकों में बढ़ते ठंड के साथ ही खाने के शौकीनों के लिए मार्केट में खानपान की वैरायटी मिलनी प्रारम्भ हो गई है. शहर में शाम को केसरिया दूध का मजा लोग ले रहे हैं तो दोपहर को मूंगफली व चटनी के चटकारों के संग गुनगुनी धूप का लुत्फ उठा रहे हैं. मक्खन मलाई का स्वाद को किसी भी वक्त लोग लेने को तैयार हैं.

दिसंबर प्रारम्भ व तिल के लड्डू की डिमांड बढ़ी

काले तिल के लड्डू। 200 रुपये किलो

सफेद तिल के लड्डू.200 रुपये किलो

रेवड़ी 100 रुपये किलो

मूंगफली गुड़ पट्टी 120 रुपये किलो

गजक 100 से 500 रुपये किलो

बादाम 800 से 1000 रुपये किलो

काजू 600 से 800 रुपये किलो

अखरोट 1500 रुपये किलो

किशमिश 350 रुपये किलो

मसाला गुड़ 50 रुपये किलो

सादा गुड़ 40 रुपये किलो

केसरिया दूध 30 रुपये गिलास

मूंगफली 120 रुपये किलो

मक्खन मलाई 40 का 100 ग्राम

अण्डे के बढ़े दाम, बढ़ी खपत

अण्डा विक्रेता महेश जायसवाल ने बताया कि एक क्रेट का दाम 150 रुपये है. एक दर्जन अण्डा 60 रुपये में बिक रहा है. ठंड प्रारम्भ होते ही एक क्रेट अण्डे के दाम में 10 रुपये की बढ़ोतरी हो गई है. 10 दिन पहले तक शहर में 15000 अंडों की खपत रोजाना थी, लेकिन सर्दी प्रारम्भ होते ही यह खपत बढ़कर 18000 रोजाना हो गई है.

शरीर को चुस्त दुरूस्त बना रहा है यह खानपान

तिल व गुड़ से बने लड्डू- काले या सफेद तिल से बने लड्डू ठंड के मौसम में स्वास्थ्य के लिए बेहद मुफीद होते हैं. इनका सेवन प्रतिदिन करने से हाई ब्लडप्रेशर कंट्रोल होता है. खून की कमी है तो खून की मात्रा बढ़ती है. एसिडिटी है तो गुड़ खाने से दूर होती है. तिल में पेट के रोगों को दूर करने का गुण होता है. इसकी तासीर गर्म होती है इसलिए इसे ठंड में जरूर खाना चाहिए.

गुड़ में सुक्रोज, ग्लूकोज, कैल्शियम, फास्फोरस, आयरन के साथ ही एंटीऑक्सीडेंट गुण पाया जाता है. गुड़ प्रतिदिन खाने से यह हर मौसम में आपको मौसमी बीमारी से बचाता है.

यदि आप दिन में एक मुट्ठी मूंगफली खा लेते हैं तो आपको अण्डे व दूध के बाराबर की प्रोटीन मिल जाती है. मूंगफली में प्रोटीन, कैलरीज विटामिन के, विटामिन ई पाई जाती है. इसे खाने से पाचन शक्ति बढ़ती है.

अण्डे की तासरी गर्म होती है. इसमें विटामिन ए, डी, ई, बी़1ए बी2ए बी12 के अतिरिक्त कैल्शियम, आयरन व जिंक पाया जाता है. अण्डे में जितना एंटीऑक्सीडेंट होता है उतना ही एक सेब में पाया जाता है.