अगर आपकी बेटी भी हो गयी है जवान तो इन बातों का रखें ध्यान

अगर आपकी बेटी भी हो गयी है जवान तो इन बातों का रखें ध्यान

अक्सर माँ-बाप बेटी का विशेष ख्याल रखते है। बेटी अगर घर से कहीं बाहर जाती है तो भी पेरेंट्स को उसकी चिंता सताए जाती है लेकिन कई बार मां-बाप अपने बेटी कर ऐसी रोक-टोक लगाने लग जाते है जिस वजह से बेटी को अपने पेरेंट्स से नफरत होने लगती है और उनका कहना मानना तक बंद कर देती है। अगर आपकी बच्ची में किशोर अवस्था में आ चुकी है तो उसके साथ जरा सावधानी के साथ नर्मी से बर्ताव करें।

इन बातों का रखें विशेष ध्यान

# उन्हें बात-बात पर टोकने के बजाएं अपने आप को समझने का मौका दें। अग बेटी अपने भीतर और आस-पास हो रहे बदलाव को खुद से समझेगी तो अच्छे से निर्णय ले पाएंगी।


# अक्सर अपने बच्चों की तुलना दूसरे बच्चों के साथ करने लगते है। जिस वजह से बच्चों को अपना अपमान महसूस होता है। ऐसे में उन्हें अपने पेरेंट्स ही दुश्मन लगने लगते है।


# हर कोई अपनी लाइप में स्पेस चाहता है। ऐसे में उसके पीछे जासूस की तरह मत घूमते रहे बल्कि उसको भी कुछ स्पेस दें। ऐसा करने से बच्चों और पेरेंट्स के बीच को भरोसा मजबूत होगा।


इन तरीकों से करें मां लक्ष्मी की पूजा और पूरी होगी हर मनोकामना

इन तरीकों से करें मां लक्ष्मी की पूजा और पूरी होगी हर मनोकामना

हमें सालभर दीवाली का बेसब्री से इंतजार किया जाता है और दीवाली की तैयारियों की जिम्मेदारी आमतौर पर महिलाएं ही निभाती हैं। बात चाहे रिश्तेदारों और परिचितों को गिफ्ट देने की हो, या घर के लिए नई खरीदारी करने की और इससे भी अहम लक्ष्मी पूजन की, इन सभी चीजों में महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका होती है।

मां लक्ष्मी की पूजा को बनाएं सफल

# घर से अवांछित सामान जैसे कि पुराने कपडे़, जूते, डिब्बे आदि हटा दें। यह सामान नकारात्मक ऊर्जा का स्रोत होता है और आर्थिक अवसरों पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है। 

# लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए भली प्रकार से पूजन करना भी आवश्यक है। जिस कक्ष में पूजा स्थल बनाएं, वहां ताजा हवा व रोशनी का पर्याप्त प्रबंध होना चाहिए।

# अपने प्रेम व देखरेख से मकान को घर बनाने वाली होती हैं महिलाएं। शास्त्रों में भी वर्णित है कि जिस घर में स्त्री का आदर-मान नहीं होता, वहां दरिद्रता वास करती है।