अगर कोशिशों के बावजूद नहीं हो पा रही है प्रेग्नेंट तो अपनाए ये तरीके

अगर कोशिशों के बावजूद नहीं हो पा रही है प्रेग्नेंट तो अपनाए ये तरीके

शादी के बाद हर लड़की का सपना होता है की उसके घर में भी बच्चे की किलकारी गूंजे। अपनी संतान को जन्‍म देकर उसके साथ खेलना चाहती है। घर में एक बच्‍चा हो तो तमाम तरह के तनाव स्‍वत: विदा हो जाते हैं। शादी के बाद बहुत दिनों तक बच्‍चा पैदा न हो तो ढेर सारे तनाव घेर लेते हैं। संतान न होने से अनेक प्रकार के ताने व यातनाएं भी झेलनी पड़ती हैं।

संतान प्राप्ति के लिए उपाय:

शिवलिंगी के बीजों को तुलसी व गुड़ के साथ पीसकर नि:संतान महिला को सेवन कराया जाता है। आदिवासी महिलाओं के अनुसार इससे जल्‍दी ही गर्भधारण हो जाता है।


मासिक धर्म समाप्त होने के 4 दिन बाद से सात दिन तक लगातार शिवलिंगी के 5 बीज खिलाए जाएं तो महिला के गर्भधारण की संभावना बढ़ जाती है।
नि:संतान महिलाओं को शिवलिंगी क बीजों व चटनी दोनों का सेवन कराने से विशेष लाभ होता है।


शिवलिंगी की पत्तियों को बेसन के साथ मिलाकर सब्ज़ी भी बनाई जाती है। इस सब्‍ज़ी का सेवन करने से स्‍वस्‍थ संतान पैदा होती है।


जीवन में पाना चाहते हैं खुशी, तो इस प्रेरक कथा में है इसका मंत्र

जीवन में पाना चाहते हैं खुशी, तो इस प्रेरक कथा में है इसका मंत्र

हर व्यक्ति चाहता है कि उसका और उसके परिवार का जीवन खुशहाल रहे। इसके लिए वह दिन-रात मेहनत करता है, रुपये, धन-दौलत कमाता है। जीवन में सबकुछ हासिल कर लेता है, कामयाब हो जाता है, लेकिन वह खुशहाल नहीं होता। उसके लिए अब भी वही सवाल रहता है कि वह खुशहाल कैसे हो? जीवन में खुशहाल होने का बहुत ही सीधा और सरल सा मंत्र है। आप भी जानना चाहते हैं उस मंत्र के बारे में, तो पढ़ें यह प्रेरक कथा।

एक गुरु ने अपने सभी शिष्यों के लिए फल मंगाए। हर एक के हिस्से के फल एक गत्ते के डिब्बे में रखे और हर डिब्बे पर एक शिष्य का नाम लिख दिया। सभी शिष्यों के फलों के डिब्बे तैयार हो गए। अब उन्होंने शिष्यों से कहा-तुम्हारे लिए फल कुटिया के अंदर रखे हैं। सभी लोग अंदर जाकर अपना नाम लिखा डिब्बा ले लो।

सभी शिष्य कुटिया के अंदर दौड़ पड़े। उत्साह में एक-दूसरे पर ही गिरने लगे। कोई अपने नाम का डिब्बा नहीं खोज पाया क्योंकि अव्यवस्था फैल गई थी। यह देखकर गुरु जी ने शिष्यों को वापस बुलाया और कहा- तुम लोग एक-एक करके कुटिया में जाओ और जो भी एक डिब्बा हाथ लगे, उठाकर ले आओ और उस पर जिस शिष्य का नाम लिखा हो, उसे दे दो।


ऐसा करने से दो मिनट में ही हर शिष्य के हाथ में उसका नाम लिखा फलों का डिब्बा था। अब गुरु जी ने समझाते हुए कहा, 'जैसे फलों का डिब्बा तुम लोग पहले खोज रहे थे, उसी तरह जीवन में लोग खुशियां खोज रहे होते हैं, लेकिन वह इस तरह नहीं मिलती। जब आप दूसरों को खुशियां देने लगेंगे, तो आपको अपनी खुशी अपने आप मिल जाएगी।

कथा का सार

असली खुशी कुछ पाने से नहीं, बल्कि देने से मिलती है। आप खुश होना चाहते हैं तो लोगों को खुशियां दीजिए, वहीं से आपको असली खुशी मिलेगी।