आतंक के विरूद्ध लड़ाई में हमेशा दोहरा चरित्र अपनाने वाले पाक ने की बड़ी कार्रवाई

आतंक के विरूद्ध लड़ाई में हमेशा दोहरा चरित्र अपनाने वाले पाक ने की बड़ी कार्रवाई

आतंक ( Terrorism ) के विरूद्ध लड़ाई में हमेशा दोहरा चरित्र अपनाने वाले पाक ( Pakistan ) ने एक बड़ी कार्रवाई की है. पाक की इस कार्रवाई को लेकर अमरीका ( America ) ने इस्लामाबाद ( Islamabad ) व इमरान खान सरकार ( Imran Khan Government ) की तारीफ की है.

दरअसल, अमरीका ने 2008 के मुंबई हमले ( Mumbai Terror Attack ) के मास्टर माइंड व अतंर्राष्ट्रीय आतंकवादी हाफिज सईद ( Hafiz Saeed ) को पाक की एक न्यायालय ने टेरर फंडिंग ( Terror Funding ) के माममले में 11 वर्ष कारागार की सजा सुनाई है. इस निर्णय को लेकर अमरीका ने पाक की सराहना की है. हिंदुस्तान व अमरीका लगातार यह मांग कर रहे थे कि हाफिज सईद को जल्द से जल्द सजा दी जाए.

अमरीका ने निर्णय का स्वागत करते हुए बोला कि आतंकवादी संगठन लश्कर ए-तैयबा ( Lashkar e-Taiba ) की जवाबदेही तय करने की दिशा में यह एक जरूरी कदम है.

बता दें कि पाक की एक आतंकवाद निरोधक न्यायालय ने आतंकवाद के लिए धन मुहैया कराने के दो मामलों में आतंकवादी हाफिज सईद को बुधवार को साढ़े पांच साल- साढ़े पांच वर्ष कारागार की सजा सनाई है. साथ ही दोनों मामलों में 15-15 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया गया है.

FATF की मीटिंग से पहले हाफिज पर कार्रवाई

दक्षिण एशिया के शीर्ष राजनयिक एलिस वेल्स ने ट्वीट करते हुए बोला कि हाफिज सईद व उसके सहयोगियों को सजा होना उसके अपराधों के लिए आतंकवादी संगठन लश्कर के जवाबदेह व पाक के लिए अपनी अंतर्राष्ट्रीय प्रतिबद्धताओं को पूरा करने की दिशा में एक जरूरी कदम है.

2008 में मुंबई में हुए हमले आतंकवादी हमले के लिए लश्कर-ए-तैयबा को जिम्मेदार ठहराया गया था. इस हमले में 166 लोग मारे गए थे.

आपको बता दें कि आतंकवादी संगठनों और आतंकवादियों के विरूद्ध कार्रवाई न करने को लेकर पाक पर FATF की तलवार लटक रही है. लिहाजा अब FATF की मीटिंग होने वाली है, उससे पहले हाफिज सईद के विरूद्ध कार्रवाई करके एक बड़ा कदम उठाया है.

पाकिस्तान की नीयत पर संदेह जताते हुए सरकारी सूत्रों ने बोला था कि फाइनेंसिएल एक्शन टास्क फोर्स ( FATF ) की मीटिंग की पूर्व संध्या पर फैसला किया गया है. बता दें कि पंजाब पुलिस के आतंकवाद विरोधी विभाग के आवेदन पर हाफिज सईद के विरूद्ध लाहौर व गुजरांवाला शहर में मुद्दा दर्ज किया गया था .