चाइना ने कोरोना वायरस को लेकर किया है एक बड़ा खुलासा, पढ़े

चाइना ने कोरोना वायरस को लेकर किया है एक बड़ा खुलासा, पढ़े

 कोरोना वायरस (Coronavirus) का खौफ पूरी संसार में दिख रहा है. कोरोना वायरस को लेकर फिर एक नाया खुलासा हुआ है. चाइना के पीएलए जनरल हॉस्पिटल व येल यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन की संयुक्त रिसर्च खुलासा करते हुए

बताया कि कोरोना वायरस के लक्षण दिखना बंद होने के 8 दिन बात में मरीज कोरोना वायरस से संक्रमिक होने कि सम्भावना है. यानी दोबारा यह वायरस उसी आदमी पर पैदा होने कि सम्भावना है. शोधकर्ताओं के मुताबिक, रिसर्च के दौरान चाइना में जिन 16 रोगियों पर नजर रखी जा रही थी उनमें से आधा मरीजों में लक्षण समाप्त होने के आठ दिन तक वायरस पाए गए थे. चाइना में ये मरीज 28 जनवरी से 9 फरवरी तक भर्ती थे.

14 दिनों से आइसोलेशन को आगे बढ़ाने की बात

कोरोना वायरस मरीजों के लिए 14 दिनों तक आइसोलेशन की बात कही गई थी. शोधकर्ताओं के मुताबिक इससे बढ़ाने की आवश्यकता है. ताकि अन्य मरीजों में इसके संक्रमण न फैले. येल स्कूल ऑफ मेडिसिन के इंस्ट्रक्टर डाक्टर लोकेश शर्मा के मुताबिक, शोध की सबसे अहम बात है कि आधे मरीजों में लक्षण समाप्त होने के कारण भी उनके शरीर में अब भी वायरस का घर है. इससे संक्रमण व भी गंभीर रूप ले सकता है.

आमतौर पर लक्षण दिखने में 5 दिन का समय लगता है लेकिन एक मरीज में भर्ती करने के 8वें दिन लक्षण दिखे. अमेरिका के डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन कंट्रोल के मुताबिक, ऐसे मरीज जिनका बुखार बिना दवाओं के अच्छा हुआ है अगर उनमें कोई लक्षण फिर दिखे तो उन्हें कम से कम 3 दिन के लिए आइसोलेट जरूर करना चाहिए.

खुद को करें लंबे समय तक आइसोलेट

शोधकर्ता डाक्टर लीजिन शी की सलाह है कि लोग खुद को लम्बे समय तक आइसोलेट करें. वह कहते हैं, अगर आपको कोरोना से जुड़े लक्षण महसूस हो रहे हैं तो घर पर ही रहें ताकि दूसरे लोग संक्रमण से बचे रहें. दो हफ्तों तक क्वारेंटाइन में रहें. कोरोना के मरीज अच्छा होने के बाद भी दूसरों को संक्रमित कर सकते हैं.