महिलाओ में क्यों आ जाती है एस्ट्रोजन की कमी की समस्या ?

महिलाओ में क्यों आ जाती है एस्ट्रोजन की कमी की समस्या ?

महिलाओ में कई हार्मोन पाए जाते है जिसमे से एक महत्वपूर्ण हार्मोन है एस्ट्रोजन। एस्ट्रोजन हार्मोन को महिलाओं की लाइफलाइन कहा जाता है, क्युकी इसकी कमी की वजह से महिलाओं के शरीर को खूब सारी दिक्कते झेलनी पड़ सकती है।

ये हार्मोन महिलाओं की स्त्रीत्व के लिए बहुत जरुरी है। एस्ट्रोजन की कमी की वजह से मासिक धर्म में और ओव्यूलेशन में दिक्कत आती हैं, जिसकी वजह से प्रेगनेंट होने में समस्या हो सकती हैं। महिलाओं की खूबसूरती के पीछे भी इस हार्मोन की भूमिका बहुत बड़ी होती है। इसलिए महिलाओं के लिए इस हार्मोन की बहुत अहमियत है। कई ऐसे फ़ूड प्रोडक्ट्स हैं, जिन्हें डाइट में शामिल करने से एस्ट्रोजन का स्तर शरीर में बनाया रखा जा सकता है।

-लो-सेक्स ड्राइव महिलाओं में लो-सेक्स ड्राइव का एक बड़ा कारण है एस्ट्रोजेन लेवल की कमी। अगर, आपकी सेक्स ड्राइव लगातार कम हो रही है तो हो सकता है कि आपके एस्ट्रोजेन लेवल में कमी हो सकती है। एस्ट्रोजन की कमी का असर वजाइनल लुबक्रेशन पर भी पड़ता हैं। इस हार्मोन की कमी के वजह से वजाइना ड्रायनेस की समस्या उत्पन्न हो सकती है।

-हेयर फॉल हार्मोन्स का असंतुलन से फीमेल पैटर्न हेयर लॉस हो सकता है। इसीलिए, अचानक से आपके बाल झड़ने लगें। तो, आपको डॉक्टर से मिलना चाहिए। इस हेयर फॉल की वजह, लो-एस्ट्रोजन लेवल भी हो सकता है।

- एस्ट्रोजन की मात्रा को सामान्य बनाये रखने के लिए अखरोट, मूंगफली, अलसी के बीज, सोयाबीन, टिल के बीज और सूखे मेवे का भरपूर सेवन अत्यंत आवश्यक है। इसके सेवन से एस्ट्रोजन की लेवल को नियंत्रित किया जा सकता है।