WHO के मुताबिक, साल 2050 तक बहरे हो जाएंगे इतने करोड़ लोग!

WHO के मुताबिक, साल 2050 तक बहरे हो जाएंगे इतने करोड़ लोग!

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने बड़ी चेतावनी जारी कर एक रिपोर्ट जारी की है, जिसके मुताबिक साल 2050 तक 70 करोड़ लोगों के कान ख़राब हो सकते हैं। मौजूदा वक्त की बात करें तो इस समय दुनियाभर में करीब 400 मिलियन लोग अपनी सुनने की शक्ति खो चुके हैं। सुनने की शक्ति को लेकर जारी ये रिपोर्ट ख़तरनाक स्थिति की ओर इशारा कर रही है।

इस रिपोर्ट के मुताबिक, साल 2050 तक यह आंकड़ा 700 मिलियन से ज्यादा होगा। इसके पीछे कई कारण हैं, लेकिन सबसे बड़ा कारण है लंबे समय तक तेज़ आवाज़ में गाने सुनना। हर साल 3 मार्च यानी आज के दिन दुनियाभर में सुनने की शक्ति को लेकर जागरूकता फैलाने के लिए वर्ल्ड हियरिंग डे मनाया जाता है।

रिपोर्ट के अंदर बताया जाएगा कि आखिर किस तरह आप अपने सुनने की शक्ति हमेशा बनाए रख सकते हैं? इस साल वर्ल्ड हियरिंग डे की थीम का नाम है Hearing care for All-Screen. Rehabilitate. Communicate”। आपको बता दें कि यह पहली बार होगा जब सुनने की शक्ति को लेकर विश्व में कोई रिपोर्ट लॉन्च की जा रही हो।


सुनने की शक्ति जाने से ज़िंदगी पर होगा ऐसा असर

उजाला सिग्नस ग्रुप ऑफ़ हॉस्पिटल्स के फाउंडर और डायरेक्टर डॉ. शुचिन बजाज का कहना है, "विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भविष्यवाणी की है कि 2050 तक चार में एक लोगों को सुनने में परेशानी हो सकती है जोकि चिंताजनक बात है। ऐसा देखा गया है कि हमारे देश में सुनने में परेशानी होने पर इस समस्या को गंभीरता से नहीं लिया जाता है और इसके प्रति कुछ कुप्रथाएं भी मशहूर हैं। हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि हमारे सुनने की क्षमता बहुत अमूल्य है। सुनने में दिक्कत आने पर इलाज न कराने से हमारी जिंदगी की गुणवत्ता पर बुरा असर पड़ सकता है क्योंकि इससे लोगों की बात करने की क्षमता में कमी हो जाती है। उन्हें पढ़ने में दिक्कत होती है और जीविका कमाने में भी परेशानी का सामना करना पड़ता है। ऐसा देखा गया है कि अगर इस तरह की कंडीशन को काफी समय तक नज़रअंदाज किया जाता है, तो इससे मरीज़ के मानसिक स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ता है। इसलिए यह समय की मांग हो चुकी है कि सुनने में परेशानी होने पर तुरंत देखरेख और मेडिकल हस्तक्षेप की आवश्यकता है ताकि परिणाम घातक न हो।'


सुनने की समस्या को कैसे रोका जाए?

पारस हॉस्पिटल, गुरुग्राम के ईएनटी डिपार्टमेंट के डॉ. अमिताभ मालिक का कहना है, "सुनने की क्षमता में कमी समाज में बहुत सारे लोगों को होती है। यह किसी बीमारी की वजह से हो सकता है जो मिडिल कान या आंतरिक कान को डैमेज कर देता है या यह जन्मजात भी हो सकता है, या उम्र से सम्बंधित और बहुत तेज़ आवाज़ सुनने से भी सुनने में समस्या आ सकती है। बच्चों में लगभग 60% सुनने की समस्या को होने से रोका जा सकता है। 


- इसके लिए कुछ सावधानी बरतनी पड़ेगी जैसे कि रूबेला और मैनिंजाइटिस की रोकथाम के लिए टीकाकरण और मातृत्व और नवजात देखभाल में सुधार, बीच कान में इन्फ्लेमटरी बीमारी की स्क्रीनिंग कराना आदि। 

- यह ज़रूरी है कि इसी बीच कान की अच्छी साफ़-सफाई रखें क्योंकि प्रतिवर्ती सुनने में कमी होने का सबसे आम कारण कान का वैक्स है। 

- भारत में 63 मिलियन लोग (6.3%) सुनने में कमी की समस्या से पीड़ित होते हैं। उम्र के बढ़ने और प्रेस्बिटेसिस भी जैसे गैर-संक्रामक कारण भारत में सुनने में कमी के सबसे आम कारणों में से एक हैं। इसके अलावा शोर से भी सुनने की क्षमता में कमी होती है। नाक की एलर्जी और ठंड के कारण बीच कान में इंफेक्शन होता है और जिससे सुनने की क्षमता कम हो जाती है।"


रिपोर्ट बताती है कि बहरेपन की समस्या ज़्यादातर उन देशों में बढ़ रही हैं जो पूरी तरह विकसित नहीं हैं। इसके अलावा इन देशों में न तो इस समस्या से निपटने के लिए किसी तरह की प्लानिंग है और न ही यहां के लोग इसको लेकर जागरूक हैं। ऐसे में जब व्यक्ति अपने सुनने की शक्ति खो देता है, तो इसकी वजह से भाषा सीखने में भी दिक्कत आती है और किसी से बाद करना भी बहुत सीमित हो जाता है।


हेल्दी ब्रेकफास्ट के साथ भरपूर मात्रा में लिक्विड्स लेकर सुधार सकते हैं अपना इम्यून सिस्टम

हेल्दी ब्रेकफास्ट के साथ भरपूर मात्रा में लिक्विड्स लेकर सुधार सकते हैं अपना इम्यून सिस्टम

कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के अलावा हाल-फिलहाल बदलते मौसम की वजह से भी फ्लू होने की संभावनाएं काफी हद तक बढ़ गई हैं। ऐसे में बॉडी को बीमारी से बचाए रखने के लिए आपका इम्यून सिस्टम स्ट्रॉन्ग होना बहुत ही जरूरी है। जिसे बनाने और बरकरार रखने के लिए अच्छी और बैलेंस डाइट के साथ लाइफस्टाइल में भी कुछ जरूरी बदलाव करने होेंगे। 

डाइट जो बढ़ाएंगे इम्यूनिटी और रखेंगे इंफेक्शन से दूर

संतरा

संतरा, नींबू, आंवला मौसमी जैसे खट्टे फलों को अपने आहार का नियमित हिस्सा बनाएं।

बादाम

रोजाना आठ-दस बादाम भिगोकर सुबह-सुबह खाएं। सब्जियों और फलों के सेवन के साथ खूब सारा पानी पीएं।

टमाटर

टमाटर में विटामिन के, विटामिन सी और फाइबर की बहुतायत होती है, इससे इम्यूनिटी मजबूत होती है।

मशरूम

मशरूम में शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को मजबूर करने वाले तत्व की प्रचुरता होती है। अंकुरित अनाज का भी सेवन करें।

लहसुन

रोजाना सुबह लहसुन की दो कलियों के सेवन से बल्ड प्रेशर नियंत्रित रहता है और इम्यून सिस्टम भी मजबूत होता है।

लाइफस्टाइल में करें ये जरूरी बदलाव

1. बहुत ही जरूरी है कि खुद को बेवजह की टेंशन और परेशानियों से दूर रखना और साथ ही 7-8 घंटे की नींद लेना। 

2. लाइफस्टाइल में एक्सरसाइज, योग के साथ मेडिटेशन और टहलना जरूर शामिल करें।

3. वातावरण साफ-सुथरा रखने के अलावा अपनी शारीरिक स्वच्छता का खास ख्याल रखें।

4. रोजाना थोड़ी देर धूप में बैठें जिससे सामना सूर्य की अल्ट्रा वायरलेट किरणों से हो।

5. तुलसी और करी पत्ते की आठ दस पत्तियां चढ़ाने से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढती है।

सुबह का नाश्ता है सबसे जरूरी मील

अगर आप इम्यूनिटी को बूस्ट करना चाह रहे हैं तो भले ही दोपहर और रात का खाना स्किप कर दें लेकिन सुबह का ब्रेकफास्ट जरूर करें। नाश्ता प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट से भरपूर होना चाहिए। जिसमें उबले अंडे, मौसमी ताजे फल, दलिया, नट्स, अंकुरित अनाज के साथ जूस या लस्सी को शामिल करें। जब आपके दिन की शुरूआत सही नाश्ते से होती है, तो इससे आपके शरीर और दिमाग दोनों को पोषण मिलने के साथ रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है।


लॉकडाउन के दौरान क्या करें और क्या न करें       हेल्दी ब्रेकफास्ट के साथ भरपूर मात्रा में लिक्विड्स लेकर सुधार सकते हैं अपना इम्यून सिस्टम       COVID-19 के बारे में 6 बातें जो गर्भवती महिलाओं के लिए हैं ज़रूरी       बुजुर्गों को सेहतमंद रखने में बेहद कारगर हैं ये 5 प्राणायाम       क्या सीज़नल इंफेक्शन भी बन सकता है कोरोना वायरस?       कोरोना वायरस का अटैक होने पर शरीर पर होने लगता है ऐसा असर       लंबे लॉकडाउन के दौरान इस तरह रखें अपने बच्चों की पढ़ाई का ध्यान       बाहर से आई सब्ज़ी और फलों से भी है वायरस का ख़तरा, बरतें ये सावधानियां       जानें, डिप्रेशन से बचने के लिए वर्क फ्रॉम होम करने वालों को क्या-क्या करना चाहिए       लॉकडाउन के दौरान क्रिएटिविटी बनाए रखने के लिए वर्क फ्रॉम होम करने वालों को ये करना चाहिए       कोरोना वायरस से लड़ने में सक्षम हैं ये 5 आयुर्वेदिक ड्रिंक्स       पिछली महामारियों से कैसे 10 गुणा ज़्यादा ख़तरनाक है कोरोना वायरस       सूखी खांसी और गीली खांसी में क्या है फर्क?       नींद आने में हो रही है दिक्कत, तो चैन से सोने के लिए अपनाएं ये टिप्स       7 दिनों का ये डाइट मेन्यू करें फॉलो, मिलेगी हेल्दी और स्लिम-ट्रीम बॉडी       देश के इन हिस्सों में गरज के साथ होगी तेज बारिश, जानें- IMD का ताजा अपडेट       हरियाणा में जन्मे और अल्‍पसंख्‍यकों की आवाज रहे पाकिस्तानी मानवाधिकार कार्यकर्ता आइए रहमान का निधन       Kareena Kapoor Khan ने प्रेगनेंसी के दौरान जमकर खाया पिज्जा और पास्ता       अपनी टीम की हार से निराश हुए शाहरुख खान, फैंस से इस अंदाज में मांगी माफी       'रात बाक़ी है' में फीमेल लीड निभा रहीं पाउली दाम ने बताया, 'हेट स्टोरी' के बाद क्यों हो गयीं बॉलीवुड से दूर