पिछली महामारियों से कैसे 10 गुणा ज़्यादा ख़तरनाक है कोरोना वायरस

पिछली महामारियों से कैसे 10 गुणा ज़्यादा ख़तरनाक है कोरोना वायरस

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने 12 मार्च को कोरोना वायरस को महामारी घोषित कर दिया था। तब से यह वायरस दुनिया के 180 देशों में फैल चुका है और 53 हज़ार से ज़्यादा लोगों की मौत का कारण बन चुका है। इटली, स्पेन और अमेरिका में सबसे अधिक लोगों की मौत हुई हैं। इस वायरस से भारत में अब तक 2301 से अधिक लोग संक्रमित पाए गए हैं। हालांकि, ऐसा नहीं है कि पहली बार मानव किसी महामारी का शिकार बन रहा है, लेकिन यह वायरस कई कारणों से अब तक का सबसे भयावह और ख़तरनाक वायरस है।

ये है वजह:

यह नावेल कोरोना वायरस है 

2019 कोरोना वायरस, उस वायरस के परिवार से है जो जानलेवा और घातक हैं। इस वायरस के परिवार ने पहले भी इंसानों को अपना शिकार बनाया है जिसमें मिडल ईस्ट रेस्पीरेट्री सिंड्रोम (MERSA) और गंभीर तीक्ष्ण श्वसन सिंड्रोम यानी SARS वायरस प्रमुख हैं। हालांकि, ऐसा पहली बार हुआ है जब पूरी दुनिया में बड़ी संख्या में लोग किसी एक वायरस से संक्रमित हुए हैं। 

COVID-19 के खिलाफ सामूहिक रूप से लड़ने की आवश्यकता। इस संक्रमण का पैमाना काफी हद तक अनुमानों पर आधारित है, जिसका अर्थ है कि कोई भी वास्तव में इतने बड़े पैमाने पर महामारी से निपटने के लिए तैयार नहीं है। हम अब भी नहीं जानते कि कितने लोग इसकी चपेट में आएंगे या कितने लोगों की जान जाएगी। इस वक्त एक ही चीज़ तो मुमकिन है, वो ये है कि जोखिम से बचें और इस वायरस की चेन को रोकें। 

संक्रमण दर काफी अधिक है

इससे पहले हुईं महामारियों के मुकाबले कोरोना वायरस कहीं अधिक ख़तरनाक है। ये बेहद तेज़ी से फैल रहा है।  में संक्रमण का खतरा अधिक नहीं था। जबकि कोरोना वायरस का संक्रमण दर बहुत अधिक है। यह अत्यधिक संक्रामक है और इसलिए इससे लड़ना आसान नहीं है।

कई लोगों में लक्षण नहीं दिखते

कई मौके पर ऐसा देखा गया है कि व्यक्ति में कोरोना वायरस के लक्षण नहीं दिखते हैं। ऐसे मे कई लोग इससे संक्रमित हो रहे हैं। साथ ही इस वायरस के लक्षणों को पहचानने में 5 से 14 दिन लग जाते हैं। साथ ही,    

सबसे बड़ी समस्या जिसकी वजह से दुनियाभर के कई देश लॉकडाउन की स्थिति में हैं, वह ये है कि कई लोगों में कोरोना वायरस के लक्षण दिखाई नहीं देते, लेकिन इसके बावजूद वो दूसरों को ये वायरस दे सकते हैं। इसके साथ ही वायरस का ऊष्मायन समय (5 से 14 दिन) भी लंबा है। जिससे जांच का समय को और अधिक लम्बा खींच जाता है। इसके अलावा इसके कई लक्षण फ्लू या ज़ुकाम के हैं, जिसकी वजह से मुश्किल बढ़ रही है।

HERD इम्यूनिटी भी नहीं

झुंड उन्मुक्ति यानी Herd Immunity का मतलब होता है, पिछले वैक्सीन की वजह से एक आबादी या वर्ग का संक्रमण या किसी बीमारी से प्रतिरक्षा हासिल करना। पिछले महामारी के साथ, Herd Immunity की संभावना भी अभी तक नहीं देखी गई है। कोरोना वायरस किसी भी व्यक्ति को संक्रमित कर सकता है। फिर चाहे वो व्यक्ति किसी भी आयु का हो, या उसका इम्यून सिस्टम अच्छा हो। हालांकि, ये उन लोगों के लिए जानलेवा हो सकता है जो पहले से ही किसी गंभीर बीमारी से ग्रस्त हैं। क्योंकि कोरोना वायरस एक नया संक्रमण है, इसलिए अभी तक इससे बचने के लिए कोई वैक्सीन या इसका इलाज भी नहीं है, जो इसे और भी ख़तरनाक बनाता है।


महिलाओं में उम्र के साथ बढ़ने लगती है प्रेग्नेंसी की समस्या

महिलाओं में उम्र के साथ बढ़ने लगती है प्रेग्नेंसी की समस्या

मॉर्डन ज़माने में धीरे धीरे इंसानों की मानसिकता बदलती जा रही है। लेकिन अधिक उम्र में मां बनना बच्चे और मां दोनों के हेल्थ के लिए खतरनाक है, क्योकि उम्र बढ़ने के साथ बच्चे को सही तरीके से पोषण नहीं मिल पाता है। अधिक उम्र न सिर्फ महिलाओं के लिए नुकसानदायक है बल्कि पुरुषो में भी प्रजनन क्षमता को कम करता है।

इसलिए आती है प्रेग्नेंसी की समस्या:

देर से शादी होने के कारण पुरुषों की प्रजनन शक्ति या शुक्राणु सीधे तौर पर प्रभावित होते है। इस कारण गर्भधारण करने में समस्या होती है।

उम्र बढने के साथ-साथ पुरुषों के शुक्राणु व महिला के अंडाणु की गुणवत्ता कमजोर होती चली जाती है। 

उम्र बढ़ने के साथ ही पुरुष व महिलाएं हाई ब्लड प्रेशर, डायबिटीज व थायराइड जैसी बीमारियों की चपेट में आसानी से आ जाते है।

अधिक उम्र में शादी से महिलाओं की बच्चेदानी में ट्यूमर भी होने लगे हैं। देरी से स्तनपान, गांठ पैदा कर देता है जो स्तन कैंसर का खतरा बढ़ा देती है। 

30 से 35 साल की उम्र के बाद एबनॉर्मल प्रेग्नेंसी की संभावनायें बढ़ जाती हैं। अधिक उम्र में प्रेग्नेंट होने से नॉर्मल डिलीवरी की संभावना बहुत कम हो जाती है।


तलाक होते ही अनुपमा ने बदला घर, कैंसर से लड़नी होगी अब लड़ाई       Himani Shivpuri ने जताई बुजुर्ग कलाकारों को लेकर फिक्र, कहा...       एक कविता के जरिए अनुपम खेर ने बयां किया अपना हाल-ए-दिल       मुंबई में समंदर किनारे है श्रद्धा कपूर का आलीशान घर       खतरों के खिलाड़ी 11' का पहला एलिमिनेशन, ये अभिनेता होंगे बाहर!       सलमान खान के बॉडी डबल हैं परवेज काजी, सलमान से जुड़ने के बाद बढ़ी कमाई       Khatron Ke Khiladi 11: शो में हुआ पहला शॉकिंग एलिमिनेशन       कोविड-19 पॉजिटिव रुबीना दिलैक का अब ऐसा है हाल, फूट-फूटकर रोती दिखीं       मिलिंद सोमन डोनेट नहीं कर पाए प्लाज्मा, हॉस्पिटल ने लौटाया       इन हिरोइनों ने प्यार के लिए बदल लिया अपना धर्म       कंगना रनौत इजरायल-फिलिस्तीन मुद्दे में ट्रोल्स पर भड़कीं, कहा...       नेपाल में पीएम पद की शपथ पर विवाद, ओली ने नहीं दोहराया राष्ट्रपति का बोला वाक्य       कहीं खतरनाक रूप न ले ले इजरायल-फलस्‍तीन के बीच छिड़ी लड़ाई! तुर्की का कड़ा रुख       दुनिया में एक दिन में मिले 5.70 लाख नए केस, दस हजार संक्रमितों की गई जान       गाजा टनल को हथियार के तौर पर इस्तेमाल करता है हमास, जानें       इजराइल की भीषण बमबारी से कांपा गाजा शहर, अब तक 201 फलस्तीनियों की मौत       अमेरिका में स्वीकृत टीके पहली बार विदेश भेजेगा अमेरिका, राष्ट्रपति जो बाइडन का एलान       इजरायल-फिलीस्‍तीन के बीच सीजफायर कराने के लिए अमेरिकी राष्‍ट्रपति बाइडन पर बढ़ा दबाव       पाकिस्तान में ईश निंदा आरोपी को मारने के लिए थाने में घुसी भिड़       कोरोना के खिलाफ भारत की मदद जारी रखेगा अमेरिका