मोटापा भी हेयर फॉल का कारण बन सकता है, जानिए क्या कहती है रिसर्च

मोटापा भी हेयर फॉल का कारण बन सकता है, जानिए क्या कहती है रिसर्च

मोटापा तेजी से पनपने वाली ऐसी बीमारी है जिससे निजात पाना थोड़ा मुश्किल काम है। मोटापा ना सिर्फ सेहत को नुकसान पहुंचाता है बल्कि इसका असर बालों पर भी पड़ता है। आप जानते हैं बढ़ते मोटापा की वजह से आपके बाल कमज़ोर होकर तेजी से गिरने लगते हैं यह बात एक अध्ययन में सामने आई है। टोक्यो मेडिकल एंड डेंटल यूनिवर्सिटी (टीएमडीयू) के शोधकर्ताओं के मुताबिक बाल झड़ने का एक कारण आपका मोटापा भी हो सकता है।

शोधकर्ताओं ने एक आणविक तंत्र का खुलासा किया है जिसमें यह बात सामने आई है कि मोटापा की वजह से बाल पतले हो सकते हैं। अध्ययन में शोधकर्ताओं ने चूहों को शामिल किया जिसमें पाया कि वसायुक्त डाइट का सेवन करने वाले चूहों में सामान्य डाइट लेने वाले चूहों की तुलना में बालों के रोम के भीतर स्टेम सेल्स अलग व्यवहार करते हैं। स्टेम सेल्स में इंफ्लेमेटरी संकेतों के कारण ये अंतर पैदा हुआ जिसकी वजह से बाल पतले और झड़ने लगते हैं। ये आकर्षक आंकड़े मोटापे और अंगों की शिथिलता के बीच की जटिल कड़ी पर प्रकाश डालते हैं। अध्ययन के मुताबिक मोटापा दिल की बीमारी, शुगर और अन्य कई बीमारियों की जड़ है।


मोटापा किस तरह बालों के गिरने का कारण है:

शोधकर्ताओं के मुताबिक मोटापा हेयर फॉलिकल स्टेम सेल की कमी का कारण बनता है, जिससे हेयर फॉलिकल रिजनरेट नहीं हो पाते और बालों के रोम को नुकसान पहुंचता है। अध्ययन के मुख्य लेखक हिरोनोबु मोरीनागा कहते हैं वसायुक्त आहार हेयर फॉलिकल स्टेम सेल्स को कम करके बालों के पतले होने को तेज करता है।

बाल टूटने और रिजनरेट होने की प्रक्रिया:


आमतौर पर हेयर फॉलिकल्स स्टेम सेल्स (Hair follicle stem cells (HFSC) खुद ही बालों को जेनरेट कर देते हैं। बाल ऊपर से टूटते हैं और नीचे से स्टेम सेल्स नया बनाते रहते हैं। यह प्रक्रिया अपने आप लगातार चलती रहती है। उम्र के साथ-साथ HFSC में बाल रिजेनरेट की क्षमता घटती जाती है। इससे बाल पतले होने लगते हैं। हालांकि मोटापे से पीड़ित लोगों में भी androgenic alopecia का जोखिम ज्यादा रहता है। मोटापा के कारण बाल किस तरह पतले होने लगते हैं और यह किस तरह की प्रक्रिया से यह होता, इस बारे में जानकारी नहीं है। TMDU का उद्येश्य इसी प्रक्रिया का पता लगाना है। 


नींद न आने की समस्या से हैं बहुत ज्यादा परेशान, तो इन घरेलू नुस्खों को एक बार जरूर करें ट्राय

नींद न आने की समस्या से हैं बहुत ज्यादा परेशान, तो इन घरेलू नुस्खों को एक बार जरूर करें ट्राय

स्वस्थ शरीर के लिए जितना जरूरी पोषक तत्वों से भरपूर भोजन है, उतना ही आवश्यक भरपूर नींद भी है। अच्छी नींद से दिमाग शांत और मन खुश रहता है। आंखों के नीचे काले घेरे नहीं पड़ते, त्वचा की चमक बरकरार रहती है। अगर आप नींद न आने की समस्या से परेशान हैं तो यहां दिए जा रहे टिप्स आपकी मदद कर सकते हैं।

1. सिर की मालिश नींद लाने का एक कारगर उपाय है। सोने से पहले गुनगुने तेल से सिर की मालिश करें और हल्के हाथों से कनपटियों को अंगुलियों से दबाएं, कुछ ही देर में नींद आ जाएगी।


2. रात को सोने से पहले एक ग्लास गुनगुने दूध में एक टीस्पून शहद मिलाकर पिएं और सुकून भरी नींद लें।

3. रोज दो टीस्पून मेथी के पत्तों के रस में एक टीस्पून शहद मिलाकर खाने से नींद न आने की समस्या दूर होती है।

4. नियमित दलिया, बादाम, अखरोट और दूध के सेवन से अच्छी नींद आती है।

5. अच्छी नींद के लिए रात में काबुली चना, केला और कीवी खाया जा सकता है।


6.  अध्ययनों के मुताबिक सोने स कुछ देर पहले चेरी खाने से सुकूनभरी नींद आती है। दिन में दो बार एक कप चेरी का जूस पीना भी फायदेमंद होता है।

7. केले में मौजूद पोटैशियम और मैग्नीशियम मांसपेशियों को तनावमुक्त करता है, जिससे नींद अच्छी आती है। इसलिए रात को नींद न आने पर कटे हुए केले पर भुना-पिसा जीरा छिड़कर खाना चाहिए।

8. शरीर में मैग्नीशियम की कमी अनिद्रा के लिए जिम्मेदार होती है। बादाम में अच्छी मात्रा में मैग्नीशियम पाया जाता है, इसलिए सुकूनभरी नींद के लिए हर रोज 8-10 बादाम खाएं।

9. दूध में हल्दी या जायफल मिलाकर पीने से नींद से दोस्ती हो सकती है।

10. गहरी नींद के लिए रात को सोने से पहले एक ग्लास दूध में आधा टीस्पून दालचीनी पाउडर मिला सकते हैं।

11. एक ग्लास दूध में केसर के दो धागे मिलाकर पीने से गहरी नींद आती है।

12. सोने से पहले जीरे की चाय पीने या एक ग्लास दूध में एक टीस्पून जीरा पाउडर और एक केला मसल कर खाने से नींद अच्छी आती है।