सर्दी के मौसम में खानपान पर रखे कंट्रोल हो सकती है ये बड़ी कठिनाई, ऐसे करे बचाव

सर्दी के मौसम में खानपान पर रखे कंट्रोल हो सकती है ये बड़ी कठिनाई, ऐसे करे बचाव

सर्दी के मौसम में खानपान का अपना ही मजा होता है, लेकिन स्वाद स्वाद में कई बार आवश्यकता से ज्यादा खाने में आ जाता है. आमतौर पर खाना वक्त से साथ पच जाता है, लेकिन कई बार स्थिति बिगड़ जाती है.

 जो लोग किसी डाइट चार्ट को अनुसरण नहीं करते, जिनका खाने का समय तय नहीं होता, खानपान को पसंद-नापसंद के आधार पर ही तय करते हैं व बगैर सोचे-समझे ज्यादा खाते हैं उनके लिए पेट संबंधी समस्याएं खड़ी हो जाती हैं. ज्यादा खाने से पेट दर्द करने लगता है. अपच हो जाती है व खट्टी डकारें आना प्रारम्भ हो जाती हैं.  डाक्टर मेधावी अग्रवाल बताती हैं कि आवश्यकता से ज्यादा खाने से पेट फूल जाता है. इससे सांस लेने में समस्या होती है. पेट भारी लगता है व बार-बार डकार आती है. कोलेस्ट्रॉल बढ़ सकता है व पेट में जलन भी हो सकती है. जिन लोगों का पाचन निर्बल होता है, उनके लिए यह स्थिति व गंभीर हो सकती है.
 
ज्यादा खा लिया है तो तुरंत करें ये काम
अगर किसी वजह से ज्यादा खा भी लिया है तो खाना पचाने के तरीका प्रारम्भ कर देना चाहिए. जैसे एक जगह पर बैठने या लेटने के बजाए घूमने निकल जाएं. चहलकदमी सबसे ठीक उपचार है. ढीले कपड़े पहन लें, खासतौर पर पेट के हिस्से वाले कपड़े ढीले रखें. इससे सांस लेने में राहत मिलेगी. खाने के तुरंत बाद ज्यादा पानी न पिएं. इससे पाचन क्रिया में बाधा आ सकती है व एसिडिटी के कारण कठिनाई बढ़ सकती है. पेट में यदि गैस बन रही है तो उसे निकलने दें. पाचक गोलियों का प्रयोग किया जा सकता है. कई लोग इस स्थिति में सोड़े का सेवन करना अच्छा मानते हैं, लेकिन सच्चाई यह है कि इससे पेट में व गैस बनती है व पेट ज्यादा फूल जाता है. 
 
ज्यादा खाने से ऐसे बचें
ज्यादा खाने यानी ओवरइटिंग से बचने के लिए कुछ बातों का ध्यान रखना महत्वपूर्ण है. खाते समय यदि ध्यान कहीं व हो तो इंसान ज्यादा खा लेता है व फिर कठिनाई होती है. खाते समय टीवी न देखें. ज्यादा बातें भी न करें. पूरा ध्यान अपने भोजन पर लगाएं. परिवार के साथ में बैठकर खाना अच्छा है, लेकिन जब एक ही थाली में खाना खाते हैं तो पता नहीं चलता कि किसने कितना खाया है. इसलिए अपने पेट का ख्याल जरूर रखें. खासतौर पर डायबिटीज के मरीजों के लिए यह बहुत गंभीर स्थिति हो सकती है. ज्यादा खाना एक बीमारी भी हो सकती है. बेहतर होगा खाने का नियम बनाएं. ठीक समय पर नियत मात्रा में खाएं.
 
से जुड़े डाक्टर लक्ष्मीदत्ता शुक्ला के अनुसार, छाती में जलन हो रही है तो ठंडा पानी पिएं. मुलेठी व बादाम का सेवन भी फायदा पहुंचाता है. एक चम्मच शहद पीने से भी तत्काल राहत मिलती है.
 
डॉक्टर को कब दिखाएं 
ज्यादा खाने के बाद यदि ऊपर बताए तरीकों से आराम नहीं मिल रहा है व पेट में तेज दर्द बना हुआ है तो बिना देरी करे चिकित्सक से मिलें. कारण यह कि समस्या लंबे समय तक बनी रहेगी तो खतरनाक हो सकती है. बुखार आ सकता है. मल में खून आ सकता है. उल्टी हो सकती है. छाती पर दबाव महसूस होने कि सम्भावना है व हार्ट पर भी प्रभाव पड़ सकता है. गंभीर मामलों में खून की उलटी हो सकती है. लिवर फेल होने कि सम्भावना है.