इन कारणो की वजह से लगती आपको सिगरेट की लत, ऐसे पाए छुटकारा

इन कारणो की वजह से लगती आपको सिगरेट की लत, ऐसे पाए छुटकारा

विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट के मुताबिक, हिंदुस्तान समेत दुनियाभर के राष्ट्रों में सिगरेट पीने वालों की संख्या घटी है. संगठन के प्रमुख डाक्टर टेड्रोस के अनुसार, 'वैश्विक स्तर पर सिगरेट समेत अन्य तंबाकू उत्पादों का सेवन करने वाले पांच में से चार पुरुष हैं. 

अब सिगरेट पीने वालों में कमी दर्ज होने का अर्थ है कि तंबाकू के विरूद्ध अभियान का पुरुषों पर प्रभाव हो रहा है.' यह अच्छी बात है कि हिंदुस्तान में भी लोग सिगरेट के बुरे प्रभावों के प्रति जागरुक हो रहे हैं व इसकी लत से पीछा छुड़ाने में पास हो रहे हैं. 

 से जुड़ीं डाक्टर अनुशीखा धनखड़ के अनुसार, 'कम आयु में स्मोकिंग प्रारम्भ करने वालों में इसकी लत का खतरा अधिक होता है. माना जाता है कि महज 6 प्रतिशत लोग सिगरेट की लत से छुटकारा पाने में पास होते हैं.'

डाक्टर अनुशीखा बताती हैं कि सिगरेट पीने के बाद इंसान को एनर्जी महसूस होती है, लेकिन वास्तव में इसका स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ता है. लंबे समय तक सिगरेट का सेवन करने से खांसी, फेफड़ों का कैंसर होने का खतरा रहता है. पुरुषों में नपुसंकता बढ़ती है. समय रहते कंट्रोल न किया जाए तो बेहिसाब स्मोकिंग मृत्यु का कारण भी बन सकती है. 

सिगरेट की लत के लक्षण
स्मोकिंग करने वाला कोई शख्स यह मानने को तैयार नहीं होता है कि उसे इसकी लत लग गई है. उसे खुद के साथ ईमानदार रहना होगा व निम्न लक्षण नजर आने पर कंट्रोल प्रारम्भ करना होगा. यदि खुद नहीं कर पा रहा है तो उपचार का सहारा भी लिया जा सकता है. 

- कार्य में मन नहीं लगना
- सिर दर्द बना रहना
- थोड़ी-थोड़ी देर में बेचैनी महसूस होना
- भूख व वजन बढ़ना
- नींद नहीं आना
- स्वभाव में परिवर्तन जैसे आकस्मित गुस्सा होना
- बिना किसी कारण के उदास महसूस करना
- सांस में तकलीफ या सांस तेज चलना
- बिना कार्य के पसीना आना
 
सिगरेट की लत से ऐसे पाएं छुटकारा
न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार, निकोटिन की मदद से सिगरेट की लत को धीरे-धीरे घटाया जा सकता है. मार्केट में ऐसे पैच उपलब्ध हैं जो शरीर में निकोटिन की एक छोटी मात्रा को इंजेक्ट करते हैं. इससे व्यसन से छुटकारा पाने में मदद मिलती है. इसके अतिरिक्त निकोटिन गम्स, स्प्रे व इनहेलर्स भी सहायक होते हैं.

सिगरेट हो या कोई भी व्यसन, छुटकारा पाने की आरंभ जीवनशैली में परिवर्तन से आती है. अच्छा भोजन करेंगे व पर्याप्त नींद लेंगे तो शरीर तरोताजा महसूस करेगा व सिगरेट की याद नहीं आएगी. व्यायाम व प्राणायाम भी इसमें अहम किरदार निभाते हैं.
सिगरेट की लत वाला इंसान समाज, दोस्तों व परिवार से दूर भागता है. यदि इसकी लत छोड़ना है तो सिगरेट नहीं पीने वालों से दोस्ती करें. अच्छी संगत से आप घंटों सिगरेट से दूर रहेंगे व आपको इसकी याद तक नहीं आएगी. यदि इतना करने के बाद भी लत हीं छूट रही है तो चिकित्सक से उपचार करवाएं. चिकित्सक की दी दवाएं समय पर लें. इनसे धूम्रपान की ख़्वाहिश को समाप्त करने के साथ मूड सुधारने में मदद मिलती है.