COVID-19 के बारे में 6 बातें जो गर्भवती महिलाओं के लिए हैं ज़रूरी

COVID-19 के बारे में 6 बातें जो गर्भवती महिलाओं के लिए हैं ज़रूरी

कोरोना वायरस की महामारी ने हम सभी को एक तनावपूर्ण स्थिति में डाल दिया है। खासकर, गर्भवती महिलाओं के लिए इस तरह का समय और भी ज़्यादा तनावपूर्ण हो जाता है।

यहां तक कि, कई स्त्रीरोग विशेषज्ञ अब महिलाओं को कम से कम अगले दो से तीन महीने तक गर्भधारण को स्थगित करने की सलाह दे रहे हैं। हालांकि, गर्भावस्था के दौरान मां से बच्चे को कोरोनो वायरस होने का कोई सबूत अभी तक नहीं मिला है, लेकिन डॉक्टरों की सलाह है कि यह बेहद महत्वपूर्ण है कि महिलाएं किसी भी जोखिम से बचने के लिए एहतियात बरतें।

इस वक्त गर्भावस्था में कोरोनो वायरस संक्रमण के बारे में ज़्यादा जानकारी उपलब्ध नहीं है, लेकिन गर्भवती मां, पति या उनके करीबी रिश्तेदारों के मन में इससे जुड़े कई सवाल आते हैं। ऐसे ही 6 सवालों के जवाब हम आपके लिए लाए हैं।

क्या मेरे बेबी को कोरोना वायरस होने का ख़तरा है?

अभी तक सिर्फ एक ऐसा मामला सामने आया है जिसमें एक नवजात कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गाया है। इस मामले में एक्सपर्ट्स का मानना है कि बच्चा इस वायरस से पैदा होने के बाद संक्रमित हुआ। चीन से प्रकाशित चिकित्सा साहित्य इस बात का समर्थन करता है कि जो गर्भवती महिलाएं COVID​​-19 से संक्रमित पाई गई थीं, जांच करने पर उनके एम्नियोटिक द्रव में कोरोनो वायरस का संक्रमण नहीं मिला था। यहां तक कि बच्चे के जन्म के बाद गले की जांत में भी कोरोना वायरस नहीं पाया गया।

क्या गर्भवती महिलाओं में कोरोनो वायरस संक्रमण के कोई मामले सामने आए हैं?

एक ऐसा मामला है, जहां गर्भवती महिला को 30वें सप्ताह में सांस संबंधी गंभीर लक्षण विकसित हुए और उन्हें वेंटिलेशन की ज़रूरत पड़ी। उस महिला की एमेर्जन्सी में सीज़ेरियन सेक्शन करने का निर्णय लिया गया था और अब दोनों मां और बच्चे स्वस्थ हैं।

क्या गर्भवती महिलाओं में कोरोना वायरस के लक्षण अलग होते हैं?

गर्भवती महिलाओं में भी खांसी, बुखार, सांस फूलने जैसे ही समान लक्षण देखने को मिलते हैं, लेकिन अगर इंफेक्शन गंभीर स्तर पर पहुंच गया है, तो निमोनिया और सांस से जुड़ी दिक्कतें बढ़ सकती हैं और ऐसे में वेंटीलेटर की ज़रूरत पड़ सकती है।

क्या गर्भपात के आसार बढ़ जाते हैं?

इस वक्त, ऐसा कोई डेटा नहीं है जो यह सिद्ध करता हो कि कोरोनो वायरस संक्रमण से गर्भपात या गर्भावस्था के नुकसान की संभावना बढ़ जाती है।

क्या COVID-19 से संक्रमित महिलाओं के बच्चों में जन्मजात दोष होने की संभावना बढ़ जाती है?

जैसा कि पहले ही उल्लेख किया गया है कि उपलब्ध सीमित अध्ययन में देखा गया है कि वायरस मां से भ्रूण तक या प्लेसेंटा को पार नहीं करता है। इसलिए ऐसी कोई रिसर्च नहीं है जिसमें ये बात सिद्ध हो कि मां के कोरोना वायरस से संक्रमित होने से बच्चे पर असर पड़ता है।

ऐसे क्षेत्र जहां कोरोना वायरस गंभीर रूप से फैला हुआ है, वहां रह रहीं गर्भवती महिलाओं के लिए क्या सलाह है?

- जोखिम के बारे में अपने डॉक्टर को ज़रूर बताएं।

- अपने आपको कम से कम दो हफ्तों के लिए आइसोलेशन में रखें। इसका मतलब है कि ऑफिस न जाने के साथ किसी पब्लिक ट्रांसपोर्ट का भी इस्तेमाल नहीं करना है, घर पर रहें और किसी को भी मिलने के लिए घर पर न बुलाएं। इसके अलावा घर के किसी भी व्यक्ति के साथ तौलिया, साबुन, प्लेट, कप, चम्मच जैसी चीज़ें शेयर न करें। 

- अस्पताल तभी जाएं जब बेहद ज़रूरी हो। जब जाना हो तो अपने डॉक्टर को पहले से इस बारे में बताएं ताकि वह कोरोना वायरस की वजह से आपके अस्पताल आने से पहले ज़रूरी इंतज़ाम कर ले।


महिलाओं में उम्र के साथ बढ़ने लगती है प्रेग्नेंसी की समस्या

महिलाओं में उम्र के साथ बढ़ने लगती है प्रेग्नेंसी की समस्या

मॉर्डन ज़माने में धीरे धीरे इंसानों की मानसिकता बदलती जा रही है। लेकिन अधिक उम्र में मां बनना बच्चे और मां दोनों के हेल्थ के लिए खतरनाक है, क्योकि उम्र बढ़ने के साथ बच्चे को सही तरीके से पोषण नहीं मिल पाता है। अधिक उम्र न सिर्फ महिलाओं के लिए नुकसानदायक है बल्कि पुरुषो में भी प्रजनन क्षमता को कम करता है।

इसलिए आती है प्रेग्नेंसी की समस्या:

देर से शादी होने के कारण पुरुषों की प्रजनन शक्ति या शुक्राणु सीधे तौर पर प्रभावित होते है। इस कारण गर्भधारण करने में समस्या होती है।

उम्र बढने के साथ-साथ पुरुषों के शुक्राणु व महिला के अंडाणु की गुणवत्ता कमजोर होती चली जाती है। 

उम्र बढ़ने के साथ ही पुरुष व महिलाएं हाई ब्लड प्रेशर, डायबिटीज व थायराइड जैसी बीमारियों की चपेट में आसानी से आ जाते है।

अधिक उम्र में शादी से महिलाओं की बच्चेदानी में ट्यूमर भी होने लगे हैं। देरी से स्तनपान, गांठ पैदा कर देता है जो स्तन कैंसर का खतरा बढ़ा देती है। 

30 से 35 साल की उम्र के बाद एबनॉर्मल प्रेग्नेंसी की संभावनायें बढ़ जाती हैं। अधिक उम्र में प्रेग्नेंट होने से नॉर्मल डिलीवरी की संभावना बहुत कम हो जाती है।


तलाक होते ही अनुपमा ने बदला घर, कैंसर से लड़नी होगी अब लड़ाई       Himani Shivpuri ने जताई बुजुर्ग कलाकारों को लेकर फिक्र, कहा...       एक कविता के जरिए अनुपम खेर ने बयां किया अपना हाल-ए-दिल       मुंबई में समंदर किनारे है श्रद्धा कपूर का आलीशान घर       खतरों के खिलाड़ी 11' का पहला एलिमिनेशन, ये अभिनेता होंगे बाहर!       सलमान खान के बॉडी डबल हैं परवेज काजी, सलमान से जुड़ने के बाद बढ़ी कमाई       Khatron Ke Khiladi 11: शो में हुआ पहला शॉकिंग एलिमिनेशन       कोविड-19 पॉजिटिव रुबीना दिलैक का अब ऐसा है हाल, फूट-फूटकर रोती दिखीं       मिलिंद सोमन डोनेट नहीं कर पाए प्लाज्मा, हॉस्पिटल ने लौटाया       इन हिरोइनों ने प्यार के लिए बदल लिया अपना धर्म       कंगना रनौत इजरायल-फिलिस्तीन मुद्दे में ट्रोल्स पर भड़कीं, कहा...       नेपाल में पीएम पद की शपथ पर विवाद, ओली ने नहीं दोहराया राष्ट्रपति का बोला वाक्य       कहीं खतरनाक रूप न ले ले इजरायल-फलस्‍तीन के बीच छिड़ी लड़ाई! तुर्की का कड़ा रुख       दुनिया में एक दिन में मिले 5.70 लाख नए केस, दस हजार संक्रमितों की गई जान       गाजा टनल को हथियार के तौर पर इस्तेमाल करता है हमास, जानें       इजराइल की भीषण बमबारी से कांपा गाजा शहर, अब तक 201 फलस्तीनियों की मौत       अमेरिका में स्वीकृत टीके पहली बार विदेश भेजेगा अमेरिका, राष्ट्रपति जो बाइडन का एलान       इजरायल-फिलीस्‍तीन के बीच सीजफायर कराने के लिए अमेरिकी राष्‍ट्रपति बाइडन पर बढ़ा दबाव       पाकिस्तान में ईश निंदा आरोपी को मारने के लिए थाने में घुसी भिड़       कोरोना के खिलाफ भारत की मदद जारी रखेगा अमेरिका