कोरोना वायरस से लड़ने में सक्षम हैं ये 5 आयुर्वेदिक ड्रिंक्स

कोरोना वायरस से लड़ने में सक्षम हैं ये 5 आयुर्वेदिक ड्रिंक्स

कोरोना वायरस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए पूरी दुनिया में लॉकडाउन की स्थिति है। भारत में भी 14 अप्रैल तक पूरी तरह से लॉकडाउन है। स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से जारी एडवाइज़री में Covid-19 के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए लोगों को घरों में रहने की सलाह दी गई है। इसके साथ ही इम्यून सिस्टम को भी स्ट्रॉन्ग रखने के लिए कहा गया है। ऐसे में सभी लोग अपनी सेहत पर विशेष ध्यान दे रहे हैं। खासकर इम्यून सिस्टम को लेकर लोग अधिक सजग हैं। 

जैसा की आप सभी जानते हैं कि विटामिन-सी युक्त फल और सब्ज़ियों के खाने और इनके जूस पीने से इम्यून सिस्टम बेहतर होता है। हालांकि, राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान ने एक रिपोर्ट में कहा है कि अगर अधिक मात्रा में विटामिन-सी युक्त फल और सब्जियों का सेवन करते हैं तो इससे शरीर के तापमान में गिरावट आ सकती है। ऐसे में अगर आप भी विटामिन-सी के नए स्त्रोत को ढूंढ रहे हैं तो इन 5 आयुर्वेदिक औषधि को अपनाकर अपने इम्यून सिस्टम को बेहतर कर सकते हैं। आइए जानते हैं कैसे। 

1. त्रिफला जूस

त्रिफला एक आयुर्वेदिक औषधि है। इसमें अमलकी, बिभीतक और हरितकी पाए जाते हैं जिनसे दवा बनाई जाती है। इसके साथ ही इसमें फिनोल, टैनिन, गैलिक एसिड, टेरपेन और फ्लेवोनोइड जैसे यौगिक भी पाए जाते हैं, जो इम्यून के लिए बहुत लाभकारी होते हैं। 

त्रिफला में एंटी इंफ्लामेटरी और एंटी-ऑक्सीडेंट के गुण भी पाए जाते हैं जो इंफ्लामेटरी संबंधित रोगों को दूर करने में बहुत ही कारगर साबित होता है। अगर आप रोज़ाना सुबह त्रिफला जूस का सेवन करते हैं तो आपका इम्यून सिस्टम मज़बूत होगा। यह शुगर, असमय बालों के गिरने और पेट की चर्बी को कम करने में भी बहुत लाभकारी होता है। 

2. अदरक जूस 

आयुर्वेद में अदरक का बहुत इस्तेमाल किया जाता है। यह एक ऐसा मसाला है जो आपको हर घर के किचन में आसानी से मिल जाएगा। इसका न केवल स्वाद अच्छा होता है बल्कि इसमें कई आयुर्वेदिक गुण भी पाए जाते हैं जो बीमारियों से लड़ने में हमारी मदद करते हैं। इसमें पाए जाने वाला जिंजेरोल प्रमुख कंपाउड है। अगर आप गले की ख़राश, सर्दी और ज़ुकाम से निजात पाना चाहते हैं तो आपको अदरक की चाय ज़रूर पीनी चाहिए। इससे इम्यून सिस्टम बेहतर होता है। एक स्टडी से पता चला है कि अगर वर्क आउट के बाद अदरक की चाय का सेवन करते हैं तो यह मांसपेशियों के दर्द में काफी आराम मिलता है।

3. तुलसी की चाय 

तुलसी को भारत में प्रमुख आयुर्वेदिक औषधि माना जाता है। विषेशज्ञों का कहना है कि इसमें एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटी-इंफ्लामेटरी, एंटी-डायबेटिक, एंटी-अर्थराइटिस, इम्यूनोमॉड्यूलेटरी के गुण पाए जाते हैं। इसके सेवन से ग्लूकोज़ मेटाबॉलिज़्म बेहतर होता है जबकि जोड़ो की सूजन भी कम करता है। यह मानसिक तनाव को दूर करता है। इसके लिए आप तुलसी की चाय का सेवन कर सकते हैं। 

4. मेथी दाना

ज़्यादातर लोग मेथी दाने का उपयोग सब्ज़ी में करते हैं। यह न सिर्फ सेहत के लिए वरदान है बल्कि इसमें एंटी-इंफ्लामेटरी गुण भी पाए जाते हैं। इसके सेवन से आप अपना इम्यून सिस्टम बेहतर कर सकते हैं। अगर आप स्वस्थ रहना चाहते हैं तो रोज़ाना सुबह खाली पेट मेथी का पानी पीएं। इसके लिए एक गिलास पानी में 2 चम्मच मेथी डाल दें और अगली सुबह मेथी को अलग कर पानी पी जाएं।  

5. धनिया पानी

धनिया सेहत के लिए बहुत फायदेमंद है। प्राचीन समय से ही भारतीय व्यंजनों में धनिया का इस्तेमाल किया जा रहा है। इसमें एंटीऑक्सिडेंट्स जैसे गुण पाए जाते हैं जो रक्त शर्करा के स्तर और पाचन क्रिया को नियंत्रित करते हैं। यह न केवल इम्यूनिटी को बढ़ाता है, बल्कि हृदय रोग और संक्रमण से भी बचाता है।


महिलाओं में उम्र के साथ बढ़ने लगती है प्रेग्नेंसी की समस्या

महिलाओं में उम्र के साथ बढ़ने लगती है प्रेग्नेंसी की समस्या

मॉर्डन ज़माने में धीरे धीरे इंसानों की मानसिकता बदलती जा रही है। लेकिन अधिक उम्र में मां बनना बच्चे और मां दोनों के हेल्थ के लिए खतरनाक है, क्योकि उम्र बढ़ने के साथ बच्चे को सही तरीके से पोषण नहीं मिल पाता है। अधिक उम्र न सिर्फ महिलाओं के लिए नुकसानदायक है बल्कि पुरुषो में भी प्रजनन क्षमता को कम करता है।

इसलिए आती है प्रेग्नेंसी की समस्या:

देर से शादी होने के कारण पुरुषों की प्रजनन शक्ति या शुक्राणु सीधे तौर पर प्रभावित होते है। इस कारण गर्भधारण करने में समस्या होती है।

उम्र बढने के साथ-साथ पुरुषों के शुक्राणु व महिला के अंडाणु की गुणवत्ता कमजोर होती चली जाती है। 

उम्र बढ़ने के साथ ही पुरुष व महिलाएं हाई ब्लड प्रेशर, डायबिटीज व थायराइड जैसी बीमारियों की चपेट में आसानी से आ जाते है।

अधिक उम्र में शादी से महिलाओं की बच्चेदानी में ट्यूमर भी होने लगे हैं। देरी से स्तनपान, गांठ पैदा कर देता है जो स्तन कैंसर का खतरा बढ़ा देती है। 

30 से 35 साल की उम्र के बाद एबनॉर्मल प्रेग्नेंसी की संभावनायें बढ़ जाती हैं। अधिक उम्र में प्रेग्नेंट होने से नॉर्मल डिलीवरी की संभावना बहुत कम हो जाती है।


Khatron Ke Khiladi 11: शो में हुआ पहला शॉकिंग एलिमिनेशन       कोविड-19 पॉजिटिव रुबीना दिलैक का अब ऐसा है हाल, फूट-फूटकर रोती दिखीं       मिलिंद सोमन डोनेट नहीं कर पाए प्लाज्मा, हॉस्पिटल ने लौटाया       इन हिरोइनों ने प्यार के लिए बदल लिया अपना धर्म       कंगना रनौत इजरायल-फिलिस्तीन मुद्दे में ट्रोल्स पर भड़कीं, कहा...       नेपाल में पीएम पद की शपथ पर विवाद, ओली ने नहीं दोहराया राष्ट्रपति का बोला वाक्य       कहीं खतरनाक रूप न ले ले इजरायल-फलस्‍तीन के बीच छिड़ी लड़ाई! तुर्की का कड़ा रुख       दुनिया में एक दिन में मिले 5.70 लाख नए केस, दस हजार संक्रमितों की गई जान       गाजा टनल को हथियार के तौर पर इस्तेमाल करता है हमास, जानें       इजराइल की भीषण बमबारी से कांपा गाजा शहर, अब तक 201 फलस्तीनियों की मौत       अमेरिका में स्वीकृत टीके पहली बार विदेश भेजेगा अमेरिका, राष्ट्रपति जो बाइडन का एलान       इजरायल-फिलीस्‍तीन के बीच सीजफायर कराने के लिए अमेरिकी राष्‍ट्रपति बाइडन पर बढ़ा दबाव       पाकिस्तान में ईश निंदा आरोपी को मारने के लिए थाने में घुसी भिड़       कोरोना के खिलाफ भारत की मदद जारी रखेगा अमेरिका       जो बाइडन से कई गुना ज्यादा है कमला हैरिस की कमाई, जानें       व्यक्ति ने सांप पकड़ने के लिए लगाया ऐसा जुगाड़       कार एक्सीडेंट के बाद व्यक्ति ने किया कुछ ऐसा, जानकर हंसी नहीं रोक पाएंगे       Covid-19 से भारतियों की सुरक्षा के लिए इजरायली लोगों ने किया ॐ नमः शिवाय का जाप       शॉर्टकट संस्कार पर महिला को आया गुस्सा, देखें फिर क्या हुआ...       महिला ने डॉगी को सिखाया खाने से पहले प्रार्थना करने का पाठ