हफ्ते में तीन दिन नॉनवेज खाते हैं तो सावधान हो जाइए

हफ्ते में तीन दिन नॉनवेज खाते हैं तो सावधान हो जाइए

नॉन वेज खाने के शौकीनों का पेट हर रोज नॉनवेज खाने से ही भरता है। ऐसे लोग रोज़ाना चिकन या मीट ही खाना पसंद करते हैं। मीट में विभिन्न पोषक तत्व जैसे प्रोटीन, विटामिन ए, विटामिन बी, विटामिन डी और जस्ता, मैग्नीशियम, लोहा मौजूद रहता है। आप जानते हैं इन सभी पोषक तत्वों की  शरीर को सीमित मिकदार में ही आवश्यक होती हैं। लेकिन कुछ लोग रोज़ाना ही खाने में मीट का सेवन करना पसंद करते हैं जो उनकी सेहत के लिए नुकसानदायक है। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने अध्ययन में पाया है कि सप्ताह में तीन या उससे अधिक दिन मीट का सेवन करने से हार्ट डिजीज, डायबिटीज के साथ ही नौ बीमारियों का जोखिम कई गुना बढ़ जाता है।

अध्ययन के मुताबिक डाइट में मीट का लगातार सेवन करने से नौ तरह की गैर-कैंसर की बीमारियों की आशंका को कई गुना बढ़ जाती है। यूके के शोधकर्ताओं ने इन बीमारियों और मीट के बीच के संबंध को प्रमाणित किया है। शोध के मुताबिक जो लोग मीट का सेवन नियमित तौर पर करते हैं, उसमें हार्ट डिजीज, डायबिटीज, न्यूमोनिया और कुछ अन्य गंभीर बीमारियों होने की आशंका कई गुना बढ़ जाती है।


डब्ल्यूएचओ ने किया सतर्क:

इससे पहले की रिसर्च में पाया गया था कि रेड मीट या प्रोसेस्ड मीट के ज्यादा सेवन से आंत का कैंसर हो सकता है, लेकिन पहली बार इस रिसर्च में हार्ट डिजीज, डायबिटीज, न्यूमोनिया जैसी बीमारियों का सीधा संबंध मीट से जोड़ा गया है। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने अपनी रिसर्च में पाया है कि प्रोसेस्ड मीट या पॉल्ट्री मीट को सप्ताह में तीन दिन खाया जाए तो यह 9 अलग-अलग तरह की बीमारियों के जोखिम को कई गुना बढ़ा देते है। यह रिसर्च विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वार सतर्क रहने के दावे को मज़बूत करती है।


रेड मीट के सेवन से होने वाली बीमारियां

हार्ट डिजीज, न्यूमोनिया, डायवर्टिकुलर डिजीज, कोलोन पॉलिप, डायबिटीज, गैस्ट्रो ऑसोफेजियल रिफलेक्स डिजीज, गैस्ट्रिक, ड्यूडेनाइटिस शामिल हैं। शोधकर्ताओं के मुताबिक मीट खासकर रेड और प्रोसेस्ड मीट का ज्यादा सेवन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है।

शोधकर्ताओं ने अध्ययन को प्रमाणित करने के लिए ब्रिटेन मे मीडिल एज के लगभग 5 लाख लोगों पर 8 साल तक अध्ययन किया। इनके हेल्थ रिकॉर्ड को विभिन्न अस्पतालों से खंगाला और इनकी डाइट और मेडिकल हिस्ट्री पर विश्लेषण किया। विश्लेषण में पाया गया कि जिन व्यक्तियों ने सप्ताह में तीन दिन या उससे ज्यादा मीट का सेवन किया है, उनकी हेल्थ पर मीट का सेवन नहीं करने वालों की तुलना में विपरीत असर पड़ा है। यूनिवर्सिटी के नूफील्ड डिपार्टमेंट ऑफ पॉपुलेशन हेल्थ के विशेषज्ञ डॉ केरेन पेपियर ने बताया कि जो व्यक्ति रोजाना 70 ग्राम अनप्रोसेस्ड रेड मीट या प्रोसेस्ड मीट का सेवन करता है, उसमें डायबीटिज होने की आशंका 30 प्रतिशत जबकि हार्ट डिजीज होने की आशंका 15 प्रतिशत बढ़ जाती है। इसी तरह 30 ग्राम पॉल्ट्री मीट यानी चिकेन का रोजाना सेवन करने से डायबिटीज होने की आशंका 14 प्रतिशत और गैस्ट्रो ऑसोफेजियल रिफलेक्स होने की आशंका 17 प्रतिशत बढ़ जाती है।  


हेल्दी ब्रेकफास्ट के साथ भरपूर मात्रा में लिक्विड्स लेकर सुधार सकते हैं अपना इम्यून सिस्टम

हेल्दी ब्रेकफास्ट के साथ भरपूर मात्रा में लिक्विड्स लेकर सुधार सकते हैं अपना इम्यून सिस्टम

कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के अलावा हाल-फिलहाल बदलते मौसम की वजह से भी फ्लू होने की संभावनाएं काफी हद तक बढ़ गई हैं। ऐसे में बॉडी को बीमारी से बचाए रखने के लिए आपका इम्यून सिस्टम स्ट्रॉन्ग होना बहुत ही जरूरी है। जिसे बनाने और बरकरार रखने के लिए अच्छी और बैलेंस डाइट के साथ लाइफस्टाइल में भी कुछ जरूरी बदलाव करने होेंगे। 

डाइट जो बढ़ाएंगे इम्यूनिटी और रखेंगे इंफेक्शन से दूर

संतरा

संतरा, नींबू, आंवला मौसमी जैसे खट्टे फलों को अपने आहार का नियमित हिस्सा बनाएं।

बादाम

रोजाना आठ-दस बादाम भिगोकर सुबह-सुबह खाएं। सब्जियों और फलों के सेवन के साथ खूब सारा पानी पीएं।

टमाटर

टमाटर में विटामिन के, विटामिन सी और फाइबर की बहुतायत होती है, इससे इम्यूनिटी मजबूत होती है।

मशरूम

मशरूम में शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को मजबूर करने वाले तत्व की प्रचुरता होती है। अंकुरित अनाज का भी सेवन करें।

लहसुन

रोजाना सुबह लहसुन की दो कलियों के सेवन से बल्ड प्रेशर नियंत्रित रहता है और इम्यून सिस्टम भी मजबूत होता है।

लाइफस्टाइल में करें ये जरूरी बदलाव

1. बहुत ही जरूरी है कि खुद को बेवजह की टेंशन और परेशानियों से दूर रखना और साथ ही 7-8 घंटे की नींद लेना। 

2. लाइफस्टाइल में एक्सरसाइज, योग के साथ मेडिटेशन और टहलना जरूर शामिल करें।

3. वातावरण साफ-सुथरा रखने के अलावा अपनी शारीरिक स्वच्छता का खास ख्याल रखें।

4. रोजाना थोड़ी देर धूप में बैठें जिससे सामना सूर्य की अल्ट्रा वायरलेट किरणों से हो।

5. तुलसी और करी पत्ते की आठ दस पत्तियां चढ़ाने से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढती है।

सुबह का नाश्ता है सबसे जरूरी मील

अगर आप इम्यूनिटी को बूस्ट करना चाह रहे हैं तो भले ही दोपहर और रात का खाना स्किप कर दें लेकिन सुबह का ब्रेकफास्ट जरूर करें। नाश्ता प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट से भरपूर होना चाहिए। जिसमें उबले अंडे, मौसमी ताजे फल, दलिया, नट्स, अंकुरित अनाज के साथ जूस या लस्सी को शामिल करें। जब आपके दिन की शुरूआत सही नाश्ते से होती है, तो इससे आपके शरीर और दिमाग दोनों को पोषण मिलने के साथ रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है।


लॉकडाउन के दौरान क्या करें और क्या न करें       हेल्दी ब्रेकफास्ट के साथ भरपूर मात्रा में लिक्विड्स लेकर सुधार सकते हैं अपना इम्यून सिस्टम       COVID-19 के बारे में 6 बातें जो गर्भवती महिलाओं के लिए हैं ज़रूरी       बुजुर्गों को सेहतमंद रखने में बेहद कारगर हैं ये 5 प्राणायाम       क्या सीज़नल इंफेक्शन भी बन सकता है कोरोना वायरस?       कोरोना वायरस का अटैक होने पर शरीर पर होने लगता है ऐसा असर       लंबे लॉकडाउन के दौरान इस तरह रखें अपने बच्चों की पढ़ाई का ध्यान       बाहर से आई सब्ज़ी और फलों से भी है वायरस का ख़तरा, बरतें ये सावधानियां       जानें, डिप्रेशन से बचने के लिए वर्क फ्रॉम होम करने वालों को क्या-क्या करना चाहिए       लॉकडाउन के दौरान क्रिएटिविटी बनाए रखने के लिए वर्क फ्रॉम होम करने वालों को ये करना चाहिए       कोरोना वायरस से लड़ने में सक्षम हैं ये 5 आयुर्वेदिक ड्रिंक्स       पिछली महामारियों से कैसे 10 गुणा ज़्यादा ख़तरनाक है कोरोना वायरस       सूखी खांसी और गीली खांसी में क्या है फर्क?       नींद आने में हो रही है दिक्कत, तो चैन से सोने के लिए अपनाएं ये टिप्स       7 दिनों का ये डाइट मेन्यू करें फॉलो, मिलेगी हेल्दी और स्लिम-ट्रीम बॉडी       देश के इन हिस्सों में गरज के साथ होगी तेज बारिश, जानें- IMD का ताजा अपडेट       हरियाणा में जन्मे और अल्‍पसंख्‍यकों की आवाज रहे पाकिस्तानी मानवाधिकार कार्यकर्ता आइए रहमान का निधन       Kareena Kapoor Khan ने प्रेगनेंसी के दौरान जमकर खाया पिज्जा और पास्ता       अपनी टीम की हार से निराश हुए शाहरुख खान, फैंस से इस अंदाज में मांगी माफी       'रात बाक़ी है' में फीमेल लीड निभा रहीं पाउली दाम ने बताया, 'हेट स्टोरी' के बाद क्यों हो गयीं बॉलीवुड से दूर