कंगना की हुई बड़ी जीत, बॉम्बे हाईकोर्ट ने दिया ये बड़ा आदेश

कंगना की हुई बड़ी जीत, बॉम्बे हाईकोर्ट ने दिया ये बड़ा आदेश

अभिनेत्री कंगना रणौत बॉम्बे हाईकोर्ट ने सात और नौ सितंबर को बृह्नमुंबई महानगर पालिका द्वारा जारी किए गए नोटिस को खारिज कर दिया है। अदालत ने कंगना के कार्यालय पर की गई तोड़फोड़ को दुर्भावनापूर्ण इरादे से की गई कार्रवाई बताया है। न्यायालय ने यह भी आदेश दिया है कि कार्यालय में की गई तोड़फोड़ के कारण हुए नुकसान का पता लगाने के लिए एक वैल्यूअर (मूल्यांकन करने वाला) को नियुक्त किया जाए। अब इस फैसले पर कंगना का रिएक्शन भी सामने आया है।


कंगना रणौत ने ट्वीट कर लिखा कि कोई व्यक्ति सरकार के खिलाफ खड़ा होता है और जीतता है तो यह जीत केवल उस व्यक्ति की नहीं होती, बल्कि पूरे लोकतंत्र की होती है। मेरा हौसला बढ़ाने के लिए हर व्यक्ति को धन्यवाद। हर उस व्यक्ति का भी शुक्रिया, जो मेरे सपनों के टूटने पर हंसे थे। यह सब इसलिए हुआ, क्योंकि आप विलेन की तरह काम कर रहे थे और मैं हीरो बन गई।

उच्च न्यायालय का कहना है कि वैल्यूअर अदालत को एक रिपोर्ट सौंपेगा। इसके बाद वह कंगना रणौत को मुआवजा देने का आदेश पारित करेगा। अदालत ने अभिनेत्री से सोशल मीडिया और अन्य लोगों पर टिप्पणी करते हुए संयम बरतने को कहा है।


 
कंगना ने बीएमसी की कार्रवाई के खिलाफ हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। इस पर जस्टिस एसजे कैथावाला और आरआई छागला की बेंच ने फैसला सुनाया। बीएमसी ने 9 सितंबर को कंगना के पाली हिल स्थित बंगले में बने ऑफिस के कई हिस्सों को अवैध बताते हुए तोड़ दिया था। कंगना ने बीएमसी से अवैध तोड़फोड़ के लिए दो करोड़ रुपये का हर्जाना मांगा है। 


 
वहीं एक और केस में कंगना रणौत के ऊपर सोशल मीडिया के माध्यम से धार्मिक भावनाएं भड़काने के आरोप में मामला दर्ज किया गया था। जिस मामले में दोनों बहनों को पुलिस के समक्ष पेश होने के लिए कई बार बुलाया गया लेकिन अब तक दोनों ही पुलिस के समक्ष पेश नहीं हुई हैं। कोर्ट ने कंगना को 8 जनवरी से पहले पुलिस के सामने पेश होने के निर्देश दिए हैं। साथ ही पुलिस को तब तक उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं करने के लिए भी कहा गया है।


फिल्मों में हीरो बनने आए थे जाकिर हुसैन, विलेन बनकर बनाई अपनी खास पहचान

फिल्मों में हीरो बनने आए थे जाकिर हुसैन, विलेन बनकर बनाई अपनी खास पहचान

स्क्रीन पर अक्सर खलनायक या कॉमेडी किरदारों में नजर आने वाले जाकिर हुसैन अब अपनी इस स्थापित छवि से अलग कुछ नए किरदारों के साथ प्रयोग करना चाहते हैं। करीब ढाई दशक से हिंदी सिनेमा में सक्रिय जाकिर को लगातार नकारात्मक किरदार निभाने से कोई ऐतराज नहीं है। जाकिर आगामी दिनों में जॉन अब्राहम अभिनीत सत्यमेव जयते 2 और कमल हासन अभिनीत इंडियन 2 जैसी फिल्मों में नजर आएंगे।

सत्यमेव जयते 2 में भी आपका चिर-परिचित अंदाज है या कुछ नया प्रयोग कर रहे हैं?

इस फिल्म में भी मैं अपने चिर-परिचित अंदाज में खलनायक की भूमिका निभा रहा हूं। लोग मुझसे यही चीजें कराना चाहते हैं। इस फिल्म की ज्यादातर हिस्सों की शूटिंग लखनऊ में हो चुकी है। अब मुंबई में सिर्फ कुछ दिनों की इनडोर शूटिंग बची है। इसके अलावा हाल ही में वेब सीरीज ठुल्ले की मनाली में शूटिंग करके आया हूं।

प्रोजेक्ट के चुनाव में किस चीज को प्राथमिकता देते हैं?

मैं देखता हूं कि अभी तक किस निर्देशक या निर्माता के साथ काम नहीं किया है, उनके साथ करता हूं। मुझे मिलने वाले प्रस्तावों में नब्बे फीसदी प्रस्ताव निगेटिव किरदारों के होते हैं। अब पहले की तरह खलनायक तो रहे नहीं। मुझे एक खास वर्ग में रख दिया गया है, इसे बदलने में वक्त तो लगेगा ही। हालांकि, ऐसे किरदार भी किसी न किसी को तो करना ही पड़ेगा, इसलिए मुझे नकारात्मक किरदार निभाने से कोई ऐतराज नहीं है। कोशिश तो हमेशा और अच्छा किरदार पाने की होती है।


और अच्छा किरदार किसे मानते हैं?

(सोचकर) और अच्छा का मतलब कोई ऐसा किरदार जो खलनायक या कॉमेडी से हटकर हो। एक सोच विकसित हो गई है कि मैं सिर्फ खलनायक या कॉमेडी किरदार निभा सकता हूं। अब केंद्रीय किरदारों के लिए कोशिश जारी है। हर कलाकार केंद्रीय किरदार निभाना चाहता है। एक ही बार मौका मिले, लेकिन केंद्रीय किरदार निभाने का मौका मिले तो सही। उसी की कोशिश है।


इंडस्ट्री में किन ख्वाहिशों के साथ आए थे?

हमेशा अभिनेता बनने की ही ख्वाहिश रही है। फिल्मों से मेरा परिचय टीवी के जरिए उस दौर में हुआ था, जब टीवी पर सप्ताह में इक्का-दुक्का फिल्में आया करती थी। उस वक्त मुझे लगता था कि फिल्में तो बाम्बे में बनती हैं और मैं दिल्ली में रहता हूं कैसे जाउंगा। फिर थिएटर की तरफ रुख किया और नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा (एनएसडी) से जुड़ा। एनएसडी में नसीरुद्दीन शाह मेरे सीनियर ही मेरे आदर्श बने। उन्हीं के विचारों पर चलते हुए मुंबई आने के बाद भी हमेशा बेहतर अभिनेता ही बनने की कोशिश की, कभी हीरो बनने का ख्याल नहीं आया।

अपनी किन फिल्मों को बार-बार देख सकते हैं?

सरकार, जॉनी गद्दार, शागिर्द और अंधाधुन मेरी कुछ ऐसी फिल्में हैं, जिन्हें मैं बिना किसी परेशानी के बार-बार देख सकता हूं। सरकार मेरे दिल के काफी करीब है, क्योंकि इस फिल्म से लोगों ने जाना था कि जाकिर नाम का भी एक अभिनेता आया है। इसी से मुझे पहचान मिली और जो आपकी पहचान बना दे, वही तो दिल के सबसे करीब होती है।

आपकी कुछ ऐसी भी फिल्में रही जो दर्शकों तक नहीं पहुंच पाई, क्या उन फिल्मों को लेकर कोई मलाल है?

ऐसी फिल्मों में वक्त और पैसा दोनों खराब करने का अफसोस तो होता ही है। दर्शकों तक फिल्म न पहुंच पाने की कई वजहें होती हैं। फिल्म रिलीज करना कलाकारों के हाथ में नहीं होता वह तो निर्माता और निर्देशक का फैसला होता है। अगर मैं उनसे रिलीज करने के लिए कहूं और वह जवाब दें कि आप ही कर के दिखाइए, फिर मैं कैसे करूंगा। मेरे वश में डबिंग से लेकर प्रमोशन तक जितनी भी चीजें होती हैं वह सब करता हूं।

स्क्रिप्ट की जरूरत के अनुसार शैली में थोड़ा-बहुत बदलाव कर लेता हूं। बाकी जीवन की भावनाएं तो हमेशा वही रहती हैं। इंसान दुखी होता है तो आंसू आते हैं, खुश होने पर हंसी आती है। यह कुछ आधारभूत चीजें हैं, इनमें क्या बदलाव करना। 


कब्ज से हैं परेशान, तो रोजाना करें ये योगासन       कोरोना काल में फ्लू हो जाने पर इन बातों का रखें ख्याल       पाना चाहते हैं तेज दिमाग, तो सप्ताह में इतने अंडे खाएं       सेहत और फिटनेस के लिहाज से मक्खन या चीज़ में से क्या खाना है ज्यादा बेहतर?       दिमाग में कैसे जमा होती है याददाश्त? वैज्ञानिकों ने खोला राज़       वजन को कंट्रोल करने के साथ ही मुंह को फ्रेश भी रखती है सौंफ, जानिए फायदे       अर्थराइटिस से पीड़ित है तो सबसे पहले अपनी डाइट को दुरुस्त करें       लंबी उम्र के लिए वैज्ञानिकों ने खोजा खास प्रोटीन, जानिए इस प्रोटीन के स्रोत       जोड़ों में होने वाले हल्के दर्द को भी न करें इग्नोर, हो सकता है आर्थराइटिस का संकेत       जानें, सप्ताह में कितनी बार और कैसे ब्लड शुगर जांच करें       क्या काढ़ा और खुद से इलाज करना, कोविड-19 से लड़ने में कर सकते हैं आपकी मदद       इस योग को करने से महज 30 दिनों में मोटापे से मिल सकता है छुटकारा       तनाव और चिंता दूर करने के साथ सुकून भरी नींद के लिए घर में जरूर लगाएं ये पौधे       आंत के कैंसर की संभावनाओं को काफी हद तक कम करते हैं ये फूड आइटम्स       क्या इंट्रानैसल वैक्सीन COVID-19 के खिलाफ लड़ाई में कर सकती है मदद       कॉमन कोल्ड, फ्लू और कोरोना वायरस के अंतर को 3 तरह से समझें!       आप भी खट्टी डकार से परेशान रहते हैं तो इन घरेलू नुस्खों को आजमाएं, जल्द मिलेगी डकार से मुक्ति       कम इंजेक्शनों में नवजात शिशु को बीमारियों से कैसे बचाएं?       शैंपू और बॉथरूम में इस्तेमाल होने वाले क्लीन प्रोडक्ट में होते हैं हानिकारक रसायन       इम्यूनिटी बूस्ट करने से लेकर स्किन के रोगों का इलाज करता है नीम