2021 Force Gurkha से कल उठेगा पर्दा , Mahindra Thar के लिए पेश करेगी चुनौती

2021 Force Gurkha से कल उठेगा पर्दा , Mahindra Thar के लिए पेश करेगी चुनौती

नई गुरखा एसयूवी कल भारत में डेब्यू करने के लिए तैयार है, आगामी गुरखा एसयूवी के बारे में कई सारी डिटेल्स का खुलासा पहले ही हो चुका है। इससे पहले कि हम आपको नई बीएस6 गुरखा के बारे में अब तक क्या कुछ पता चल चुका है इस बारे में जानकारी दें। आपको बता दें कि फोर्स मोटर्स ने पहली बार ऑटो एक्सपो 2020 के दौरान लगभग डेढ़ साल पहले बीएस6 गुरखा एसयूवी को शोकेस किया था। जिसके बाद कार को कई बार टेस्ट रन पर भी देखा गया है।

फोर्स मोटर्स ने पिछले कुछ दिनों में गुरखा के कई टीजर्स को सोशल मीडिया पर टीज़ किया था। नई गुरखा एसयूवी अपने पिछले मॉडल के बॉक्सी डिज़ाइन और प्रावरणी को बरकरार रखती है। हालांकि, सुरक्षा नियमों के अनुपालन को सुनिश्चित करने के लिए इसे एक नया बॉडी शेल और एक अपडेटेड चेसिस मिलता है। स्टाइल के लिए, फोर्स मोटर्स ने नई गुरखा को एक रि-डिज़ाइन किए गए ग्रिल, डीआरएल के साथ नए एलईडी हेडलैम्प, नए बंपर आदि से सुसज्जित किया है, और पुराने मॉडल की तरह, इसमें भी एक स्नोर्कल मिलता है।


इंटीरियर : BS6 गुरखा के इंटीरियर की बात करें तो हमें केबिन में भी काफी बदलाव देखने को मिलेंगे। 2021 फोर्स गुरखा एसयूवी में रियर में साइड-फेसिंग बेंच सीटों के बजाय फ्रंट-फेसिंग कैप्टन सीटें, एयर कंडीशनिंग, टचस्क्रीन इंफोटेनमेंट सिस्टम, रियर पैसेंजर्स के लिए अलग-अलग आर्मरेस्ट, रियर वाइपर आदि जैसी चीज़ें देखने को मिल जाती हैं।

नई BS6 गुरखा SUV में Mercedes-Benz से लिया गया 2.6-लीटर डीजल इंजन होगा जो 89 bhp का अधिकतम पावर आउटपुट और 260 Nm का पीक टॉर्क देता है। ट्रांसमिशन विकल्पों में सिर्फ पांच-स्पीड मैनुअल गियरबॉक्स शामिल होंगे। भारत में अपने लॉन्च के साथ फोर्स गुरखा पिछले साल लॉन्च हुई स्वदेशी वाहन निर्माता कंपनी महिंद्रा की पॉपुलर ऑफ रोडर थार को टक्कर देगी। आपको बता दें थार न सिर्फ पॉपुलर है बल्कि ग्राहकों के बीच काफी डिमांडिंग कार भी है, जिसकी डिलीवरी का वेटिंग पीरियड काफी लंबा है। 


प्रधानमंत्री मोदी के अभियान सौभाग्य योजना के तहत 2.82 करोड़ परिवारों को मिला बिजली कनेक्शन

प्रधानमंत्री मोदी के अभियान सौभाग्य योजना के तहत 2.82 करोड़ परिवारों को मिला बिजली कनेक्शन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा शुरू किए गए अभियान, सौभाग्य योजना के तहत अब तक 2.82 करोड़ परिवारों को बिजली का कनेक्शन हासिल हो चुका है। बिजली मंत्रालय ने शनिवार को यह जानकारी उपलब्ध कराई है। सौभाग्य योजना के चार साल पूरे होने पर एक बयान जारी करते हुए बिजली मंत्रालय ने यह कहा है कि, "इस योजना के शुरू होने के बाद से, इस साल 31 मार्च तक, 2.82 करोड़ घरों में बिजली का कनेक्शन दिया जा चुका है। मार्च 2019 तक, देश के ग्रामीण और शहरी दोनों इलाकों में 2.63 करोड़ घरों को 18 महीने के रिकॉर्ड समय में बिजली का कनेक्शन प्रदान किया गया था।"

"इसके बाद, सात राज्यों असम, छत्तीसगढ़, झारखंड, कर्नाटक, मणिपुर, राजस्थान और उत्तर प्रदेश राज्यों में, 31 मार्च, 2019 से पहले चिन्हित किए गए लगभग 18.85 लाख बिना बिजली कनेक्शन वाले घर, जो पहले कनेक्शन नहीं लेना चाहते थे, लेकिन बाद में उन्होंने बिजली कनेक्शन प्राप्त करने की इच्छा जाहिर की थी। इस तरह के घर भी इस योजना के तहत शामिल थे।"

क्या है सौभाग्य योजना

सौभाग्य योजना की घोषणा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 25 सितंबर, 2017 को की थी और यह दुनिया के सबसे बड़े घरेलू विद्युतीकरण अभियानों में से एक है। इस योजना का उद्देश्य अंतिम छोर तक कनेक्टिविटी के जरिए देश में 'सार्वभौमिक घरेलू विद्युतीकरण' प्राप्त करना है। इसके साथ ही, ग्रामीण क्षेत्रों के उन सभी घरों और क्षेत्रों में बिजली कनेक्शन देना है, जिन घरों और शहरी क्षेत्रों में गरीब परिवारों तक बिजली कनेक्शन नहीं पहुंचा है।


इस योजना की शुरुआत करते हुए, प्रधानमंत्री ने "नए युग के भारत" में बिजली कनेक्शन प्रदान करने और इक्विटी, दक्षता और स्थिरता की दिशा में काम करने का संकल्प लिया था। इस योजना के तहत कुल बजट 16,320 करोड़ रुपये का था, जबकि सकल बजटीय सहायता (जीबीएस) 12,320 करोड़ रुपये की थी।