45 दिनों में 12 लाख करोड़ रुपये का हुआ नुकसान!

45 दिनों में 12 लाख करोड़ रुपये का हुआ नुकसान!

कोविड-19 वायरस महामारी की दूसरी लहर में लोग जीवन और मृत्यु की जंग लड़ रहे हैं, तो दूसरी ओर देश का व्यापार भी दम तोड़ रहा है। कंफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) का बोलना है कि देश का व्यापार बहुत मुश्किल दौर से गुजर रहा है। कोविड-19 की दूसरी लहर ने व्यापारियों की कमर ही तोड़ दी है।  

CAIT के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी सी भरतिया और राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीण खंडेलवाल का बोलना है कि कोविड-19 वायरस के प्रकोप से पिछले 45 दिनों में हिंदुस्तान के घरेलू व्यापार को 12 लाख करोड़ रुपये का घाटा हुआ है, जो एक बड़ा नुकसान है और निश्चित रूप से ऐसे समय में जब लॉकडाउन वापस लिए जाएगा तब व्यापारियों को अपने व्यापार को दोबारा खड़ा करना बहुत मुश्किल होगा। प्रति साल देश भर में  में लगभग 1 लाख 15 हजार करोड़ रुपये का व्यापार होता है। देश में लगभग 8 करोड़ छोटे बड़े बिज़नस मैन हैं जो देश के घरेलू व्यापार को चलाते है।

CAIT ने बोला कि कारोबार के लगभग 12 लाख करोड़ रुपये के व्यापारिक नुकसान में रीटेल व्यापार में लगभग 7.50 लाख करोड़ रुपये और थोक व्यापार में लगभग 4.50 लाख करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। एक अनुमान के मुताबिक महाराष्ट्र को करीब 1.10 लाख करोड़, दिल्ली को करीब 30 हजार करोड़, गुजरात को करीब 60 हजार करोड़, यूपी को करीब 65 हजार करोड़, मध्य प्रदेश को करीब 30 हजार करोड़, राजस्थान को करीब 25 हजार करोड़, छत्तीसगढ़ को लगभग 23 हजार करोड़, कर्नाटक को  लगभग 50 हजार करोड़ का व्यापार का नुकसान हुआ है।  

भरतिया और खंडेलवाल ने वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण और सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से आग्रह किया कि लॉकडाउन हटने पर व्यापारियों को उनकी व्यावसायिक गतिविधियों को बहाल करने के लिए एक वित्तीय पैकेज दिया जाए। व्यापारियों की जिम्मेदारी केवल केन्द्र सरकार की नहीं है बल्कि प्रदेश सरकारें भी अपने-अपने राज्यों के व्यापारियों के लिए उत्तरदायी हैं।
उन्होंने बोला कि पिछले वर्ष लॉकडाउन के दौरान व्यापारियों को सरकार की ओर से घोषित पैकेजों में कोई स्थान नहीं मिली थी, जबकि बाकी सेक्टर्स के हितों का पूरा ध्यान रखा गया था।

उन्होंने बोला कि पहले तरीका के रूप में सरकार को GST, आयकर और टीडीएस के अनुसार सभी कंप्लायंस की वैधानिक तिथियों को कम से कम 31 अगस्त, 2021 तक के लिए स्थगित कर देना चाहिए। बैंकों और अन्य वित्तीय संस्थानों को व्यापारियों को सरल ढंग से और रियायती ब्याज दर पर लोन देने का आदेश दिया जाए। डिजिटल भुगतान करने पर बैंक शुल्क माफ किया जाना चाहिए और सरकार बैंक शुल्क सीधे बैंकों को सब्सिडी दे सकती है।  

CAIT का बोलना है कि जिन राज्यों में मार्केट शुरुआती दिनों में खुले थे और बाद में कुछ घंटों के लिए आंशिक रूप से खुले थे, वहां ग्राहकों की बहुत कम भीड़ थी क्योंकि लोग डर की चपेट में हैं और आवश्यक वस्तुओं की खरीदारी को छोड़कर बाजारों में जाने से बच रहे है। उन्होंने बोला कि इससे ई-कॉमर्स कारोबार में वृद्धि हो सकती है। हालांकि, यह देखा गया है कि कोविड दिशा-निर्देशों में प्रतिबंधों के बावजूद ई-कॉमर्स कंपनियां गैर-जरूरी वस्तुओं की बिक्री में लगी हुई हैं और किसी भी प्रदेश ने इस पर कोई ध्यान नहीं दिया है। CAIT का बोलना है कि ऐसा लगता है कि इन कंपनियों को कानून और नीति का उल्लंघन करने की अनुमति दी हुई है और उन्हें अब कानून का कोई डर नहीं है।


सिंगल चार्ज में 402 किलोमीटर की रेंज देगा Tesla Cybertruck, लॉन्च से पहले ही मिल रही जबरदस्त बुकिंग

सिंगल चार्ज में 402 किलोमीटर की रेंज देगा Tesla Cybertruck, लॉन्च से पहले ही मिल रही जबरदस्त बुकिंग

 दुनियाभर में ट्रक्स की कई वैराइटी हैं लेकिन इनमें सबसे यूनीक है Tesla Cybertruck जिसे हाल ही में पेश किया गया है। ये एक इलेक्ट्रिक ट्रक है जिसका डिजाइन बेहद ही यूनीक है। इस इलेक्ट्रिक ट्रक को साल के आखिर तक अमेरिका में लॉन्च किया जा सकता है लेकिन इसकी लोकप्रियता ने अभी से सारे रिकार्ड्स तोड़ने शुरू कर दिए हैं। जानकारी के अनुसार लॉन्च से पहले ही Cybertruck के 10 लाख यूनिट्स की बुकिंग हो चुकी है और इसी से आप समझ सकते हैं कि ग्राहकों में इसे लेकर कितना जबरदस्त क्रेज है। जानकारी के अनुसार इसकी डिलीवरी भी अगले साल से शुरू कर दी जाएगी।

जबरदस्त है ड्राइविंग रेंज

Tesla Cybertruck की रेंज की अगर बात की जाए तो यह सिंगल चार्जिंग में ढाई सौ मील से भी ज्यादा रेंज देता है जो किलोमीटर में तकरीबन 402 किलोमीटर के आसपास होती है। यह रेंज किसी ट्रक के हिसाब से ज्यादा नहीं लगती है उसके बावजूद भी इस बेहद यूनीक दिखने वाले इलेक्ट्रिक ट्रक को ग्राहक जमकर रिस्पॉन्स दे रहे हैं। आपको बता दें कि इस ट्रक की रेंज से जुड़ी हुई जानकारी कंपनी की आधिकारिक वेबसाइट पर मौजूद है। यह ट्रक महज 6.5 सेकेंड में ही 0 से 60 किलोमीटर की रफ़्तार पकड़ने में पूरी तरह से सक्षम है। यह एक रियर व्हील ड्राइव ट्रक है।

टेस्ला साइबरट्रक का कॉन्सेप्ट वर्जन 2019 में पहली बार पेश किया गया था। जिसके बाद से ही यह चर्चा में है। इस साइबरट्रक ने अपनी कई खास विशेषताओं के कारण सभी का ध्यान आकर्षित किया है। टेस्ला इस इलेक्ट्रिक साइबरट्रक को तीन वेरिएंट्स में लॉन्च करने जा रही है, जिसमें एक एंट्री-लेवल सिंगल-मोटर वैरिएंट होगा। जिसमें रियर-व्हील-ड्राइव कॉन्फ़िगरेशन और लगभग 402 किमी की रेंज शामिल है। वहीं मिड-रेंज वैरिएंट एक ड्यूल-मोटर सेटअप के साथ-साथ ऑल-व्हील-ड्राइव सेटअप के साथ शामिल होगी। जिसकी रेंज लगभग 483 किमी तय की जाएगी। रिपोर्ट के अनुसार टॉप मॉडल तीन इलेक्ट्रिक मोटर्स से लैस होगा। जो जाहिर तौर पर ऑल-व्हील-ड्राइव सिस्टम के साथ आएगा। इस मॉडल की रेंज करीब 805 किमी हो सकती है।

जानकारी के अनुसार टेस्ला साइबरट्रक के सबसे महंगे मॉडल की टोइंग क्षमता करीब 6,350 किलोग्राम होगी। फिलहाल कंपनी की तरफ से इस नए टेस्ला साइबरट्रक के लॉन्च की सही तारीख का खुलासा नहीं किया गया है।