बैंकों में लावारिस पड़े हैं 48 हजार करोड़, कौन से राज्य में सबसे अधिक रकम जमा

बैंकों में लावारिस पड़े हैं 48 हजार करोड़, कौन से राज्य में सबसे अधिक रकम जमा

आरबीआई के अधिकारी ने बताया कि अनक्‍लेम्‍ड राशि सबसे अधिक तमिलनाडु, पंजाब, गुजरात, महाराष्ट्र, बंगाल, कर्नाटक, बिहार और तेलंगाना/आंध्र प्रदेश के बैंकों में जमा है. बैंकों ने कई जागरुकता अभियान चलाए लेकिन उसके बावजूद बिना दावे वाली राशि लगातार बढ़ती जा रही है.

रिजर्व बैंक की सालाना रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि वित्त साल 2021-22 में बैंकों में बिना दावे वाली राशि बढ़कर 48,262 करोड़ रुपये हो गई है. पिछले वर्ष यह राशि 39,264 करोड़ रुपये थी. आपको आश्चर्य होगी लेकिन भारतीय बैंकों में बिना दावे वाली राशि की रकम हर वर्ष बढ़ती ही जा रही है जिसको देखते हुए भारतीय रिजर्व बैंक ने अब इन राशियों के दावेदारों को ढूंढने के लिए अभियान चलाने का निर्णय किया है. भारतीय रिजर्व बैंक ने 8 राज्यों पर अपना फोकस रखेगी और पता लगाएगी की कौन से राज्य में सबसे अधिक रकम जमा है. भारतीय रिजर्व बैंक के अनुसार, यदि कोई उपभोक्ता अपने खाते में जमा राशि का लेनदेन 10 वर्षों तक नहीं करता है तो वो राशि अनक्लेम्ड डिक्लेयर हो जाती है. ऐसे एकाउंट को निष्क्रिय कर दिया जाता है. अनक्‍लेम्‍ड राशि को रिजर्व बैंक डिपॉजिटर एजुकेशन एंड अवेयरनेस फंड में जमा कर देते है. 

कौन से राज्य में सबसे अधिक रकम जमा

एनडीटीवी की एक रिपोर्ट के अनुसार, भारतीय रिजर्व बैंक के अधिकारी ने बताया कि अनक्‍लेम्‍ड राशि सबसे ज्यादा  तमिलनाडु, पंजाब, गुजरात, महाराष्ट्र, बंगाल, कर्नाटक, बिहार और तेलंगाना/आंध्र प्रदेश के बैंकों में जमा है. बैंकों ने कई जागरुकता अभियान चलाए लेकिन उसके बावजूद बिना दावे वाली राशि लगातार बढ़ती जा रही है. अब प्रश्न यह है कि आखिर बिना दावे वाली राशि इतनी बढ़ क्यों रही है? बता दें कि बहुत लंबे समय से उपभोक्ता के खाते निष्क्रिय पड़े हुए हैं. हर वर्ष ऐसे खातों में से पैसा डेफ में चला जाता है. डेफ का मतलब है कि उपभोक्ता के बैंकों में जो पैसा 10 वर्ष से बिना दावे के पड़ा हुआ है वो इस डेफ फंड में चला जाता है. लेकिन यदि कोई 10 वर्ष बाद भी अपने पैसे को लेकर क्लेम करता है तो वो रकम उसे वापस कर दिया जाता है. एकाउंट निष्क्रिय होने के कई कारण हो सकते है, जैसे एकाउंट होल्डर की मृत्यु हो जाना, परिवार वालों को मृतक के एकाउंट की जानकारी न होना और गलत पता या फिर खाते में नॉमिनी का नाम दर्ज न होना. 

अनक्‍लेम्‍ड एकाउंट को लेकर कैसे हासिल करे जानकारी

बता दें कि यदि कोई अनक्‍लेम्‍ड एकाउंट की राशि डेफ में चली जाती हो और इसे वापस क्लेम करना चाहते है तो इसके लिए उपभोक्ता को बैंक से संपर्क करना होगा.अनक्‍लेम्‍ड डिपॉजिट्स के बारे में जानकारी आमतौर पर बैंक वेबसाइट्स पर ही मिल जाती है. आपके पास एकाउंट होल्‍डर के पैन कार्ड, जन्‍मतिथि, नाम और पता होना चाहिए जिससे आप बड़ी सरलता से अनक्‍लेम्‍ड राशि की जानकारी हासिल कर सकते है.