बिहार भाजपा के कार्यालय में योग करते दिखे रविशंकर, तार किशोर और संजय जायसवाल

बिहार भाजपा के कार्यालय में योग करते दिखे रविशंकर, तार किशोर और संजय जायसवाल

 बिहार की राजधानी पटना में आज विश्‍व योग दिवस की धूम है। भाजपा के प्रदेश कार्यालय में आज कोरोना की गाइडलाइन के मुताबिक शारीरिक दूरी का ख्‍याल रखते हुए तमाम बड़े नेताओं ने योगासनों का अभ्‍यास किया। बिहार के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री मंगल पांडेय ने तमाम प्रदेश वासियों से अपील की थी कि लोग अपने घरों में ही योग करते हुए तस्‍वीरें #BiharWithYoga के साथ इंटरनेट मीडिया पर शेयर करें। इसका खासा असर देखने को मिला। कोरोना गाइडलाइन की बंदिशों की वजह से पटना सहित पूरे बिहार में लगातार दूसरे साल कोई बड़ा आयोजन नहीं हो सका। हालांकि अनेक संगठनों ने वर्चुअल योग शिविर का आयोजन जरूर किया।

भाजपा के प्रदेश कार्यालय में दिखे ये बड़े नेता

योग दिवस के मौके पर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद, बिहार के उप मुख्‍यमंत्री तार किशोर प्रसाद और भाजपा के प्रदेश अध्‍यक्ष संजय जायसवाल समेत तमाम बड़े नेता भाजपा के प्रदेश कार्यालय के एक बड़े हॉल में योगाभ्‍यास करते नजर आए।

स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने सभी को दी बधाई

राज्‍य के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री मंगल पांडेय ने एक वीडियो संदेश जारी कर राज्‍य और देश के समस्‍त नागरिकों को योग दिवस की शुभकामनाएं दीं। उन्‍होंने कहा कि योग ने कोरोना संकट में हजारो लोगों की जान बचाई है। उन्‍होंने कहा कि यह शरीर और मन दोनों को मजबूती देने में सहायक है। मंत्री ने योग को विश्‍व स्‍तर पर सम्‍मान दिलाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रयासों की सराहना की। उन्‍होंने कहा कि मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार भी लगातार योग को आगे बढ़ाने के लिए प्रयास कर रहे हैं।

कई लोगों ने घर पर ही योगाभ्‍यास की तस्‍वीरें शेयर कीं

हजारों लोगों ने अपने घर पर योगाभ्‍यास करते हुए तस्‍वीरें इंटरनेट पर शेयर कीं और सभी से योग को अपनाने की अपील की। भाजपा सांसद सुशील मोदी ने अपने घर पर योग करते हुए तस्‍वीर ट्विटर पर साझा करते हुए लिखा कि वे रोजाना योगाभ्‍यास करते हैं।


डोभी-चतरा सड़क हादसे में आश्रितों को चेक देने पहुंचे अधिकारियों का हुआ झेलना पड़ा विरोध

डोभी-चतरा सड़क हादसे में आश्रितों को चेक देने पहुंचे अधिकारियों का हुआ झेलना पड़ा विरोध

गया जिले के अंतर्गत डोभी चतरा सड़क में 23 जुलाई को इनोवा और डंपर के बीच आमने-सामने हुई टक्कर में मौत के मुंह में समा गए गुरारू प्रखंड के तीन युवकों के आश्रितों को सरकारी सहायता राशि का चेक देने बुधवार को पीड़ितों के घर पहुंचे अधिकारियों का लोगों ने काफी देर से घटना के पांच दिन बाद आने के कारण जमकर विरोध किया। पीड़ित परिवारों ने उक्त अधिकारियों के हाथ से सहायता राशि का चेक लेने से इनकार कर दिया । जिससे अधिकारियों को बैरंग वापस लौटना पड़ा।

उक्त हादसे में कार में सवार सात युवकों की मौत हो गई थी। घटना में जान गंवाने वाले लोगों में गुरारु प्रख़ंड के तीन युवक गुरारु बाजार का पंकज कुमार उर्फ पूजा यादव, वरोरह गांव का संदीप यादव व कजरैला गांव का रामचंद्र यादव शामिल था। लेकिन, हादसे के पांच दिन बीत जाने के बाद भी सरकार द्वारा अनुमान्य व प्रखंड प्रशासन की ओर से मिलने वाली पारिवारिक लाभ योजना के तहत 20 हजार व कबीर अंत्येष्टि योजना के तहत तीन हजार रुपये की सहायता राशि मृतकों के आश्रितों को नहीं मिली।


बुधवार को दैनिक जागरण में प्रशासन की इस लापरवाही को प्रमुखता से प्रकाशित किया गया। जिसके बाद प्रशासन की टीम हरकत में आ गई। गुरारु के नवपदस्थापित सीओ संजीव कुमार त्रिवेदी व पुलिस पदाधिकारी छेदीलाल चौधरी ने वरोरह गांव पहूंच कर मृतक संदीप यादव के पिता शिव विजय यादव व कजरैला गांव पहूंच कर मृतक रामचंद्र यादय के भाई सह युवा राजद के प्रखंड अध्थक्ष बालेश्वर यादव से मिले।

अधिकारियों ने उक्त लोगों से पारिवारिक लाभ योजना की 20 हजार रुपये की सहायता राशि का चेक लेने के लिए कहा। लेकिन पीड़ित, प्रशासन पर सहायता राशि देने में देरी करने व.बीडीओ के नहीं आने से नाराजगी की बात कह कर चेक लेने से इनकार कर दिया। जिसके बाद उक्त अधिकारियों ने पीड़ित परिवार को समझाने का काफी प्रयास किया। अंततः उन्हें वापस लौटना पड़ा ।