बिहार में छह जुलाई तक बढ़ा अनलाक का दायरा, नीतीश कुमार ने किया ट्वीट

बिहार में छह जुलाई तक बढ़ा अनलाक का दायरा, नीतीश कुमार ने किया ट्वीट

बिहार में घटते कोरोना संक्रमण के बीच अनलाक-3 पर सोमवार की शाम फैसला ले लिया गया। इसबार बाजार में पाबंदियों में और छूट दी गई है। राज्य को छह जुलाई तक अनलाक किया गया है। सीएम नीतीश कुमार ने ट्वीट करते हुए जानकारी दी कि 23 जून से छह जुलाई तक सरकारी एवं गैर-सरकारी कार्यालय शत-प्रतिशत उपस्थिति के साथ काम करेंगे। दुकानें सुबह छह बजे से शाम सात बजे तक खोली जा सकेंगी। वहीं रात्रि कर्फ्यू रात 9 बजे से सुबह 5 बजे तक लागू रहेगा। पार्क एवं उद्यान 6 बजे सुबह से 12 बजे दिन तक खुलेंगे।

अनलाक-2 की मियाद मंगलवार की रात तक है। नया आदेश बुधवार की सुबह से प्रभावी होगा। अनलाक के दो सप्ताह में भी संक्रमण दर कम रहने के कारण अनलाक-3 में थोड़ी और छूट दी गई है। इधर, स्‍कूलों और कालेजों में अब नए सत्र के लिए नामांकन शुरू होना है। इसे देखते हुए शैक्षणिक संस्‍थानों में धीरे-धीरे गतिविधियां बढ़ाई जाने की उम्मीद थी। हालांकि बच्‍चों के स्‍कूल आने पर अभी रोक ही रहेगी। स्कूल और कालेजों को लेकर अभी और इंतजार करना होगा। 


बढ़ रही है भीड़, धीरे-धीरे दी जाएगी छूट

सोमवार की शाम आपदा प्रबंधन समूह की बैठक में अफसरों ने अगले एक सप्ताह के आदेश की रूपरेखा तय की। आपदा प्रबंधन समूह से पहले मुख्यालय स्तर के जिलों के डीएम से फीडबैक भी लिया जा रहा था। अफसरों का यह मानना है कि अब तक मिली छूट के बाद ही बाजार में काफी भीड़ है। ऐसे में छूट का दायरा धीरे-धीरे ही बढ़ाना ठीक होगा। शिक्षण संस्थानों के साथ अन्य बड़ी छूट के लिए कम से कम एक-दो सप्ताह और इंतजार करना होगा। अगर संक्रमण के घटने की रफ्तार यही रही तो अगले माह कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए जा सकते हैं।


डोभी-चतरा सड़क हादसे में आश्रितों को चेक देने पहुंचे अधिकारियों का हुआ झेलना पड़ा विरोध

डोभी-चतरा सड़क हादसे में आश्रितों को चेक देने पहुंचे अधिकारियों का हुआ झेलना पड़ा विरोध

गया जिले के अंतर्गत डोभी चतरा सड़क में 23 जुलाई को इनोवा और डंपर के बीच आमने-सामने हुई टक्कर में मौत के मुंह में समा गए गुरारू प्रखंड के तीन युवकों के आश्रितों को सरकारी सहायता राशि का चेक देने बुधवार को पीड़ितों के घर पहुंचे अधिकारियों का लोगों ने काफी देर से घटना के पांच दिन बाद आने के कारण जमकर विरोध किया। पीड़ित परिवारों ने उक्त अधिकारियों के हाथ से सहायता राशि का चेक लेने से इनकार कर दिया । जिससे अधिकारियों को बैरंग वापस लौटना पड़ा।

उक्त हादसे में कार में सवार सात युवकों की मौत हो गई थी। घटना में जान गंवाने वाले लोगों में गुरारु प्रख़ंड के तीन युवक गुरारु बाजार का पंकज कुमार उर्फ पूजा यादव, वरोरह गांव का संदीप यादव व कजरैला गांव का रामचंद्र यादव शामिल था। लेकिन, हादसे के पांच दिन बीत जाने के बाद भी सरकार द्वारा अनुमान्य व प्रखंड प्रशासन की ओर से मिलने वाली पारिवारिक लाभ योजना के तहत 20 हजार व कबीर अंत्येष्टि योजना के तहत तीन हजार रुपये की सहायता राशि मृतकों के आश्रितों को नहीं मिली।


बुधवार को दैनिक जागरण में प्रशासन की इस लापरवाही को प्रमुखता से प्रकाशित किया गया। जिसके बाद प्रशासन की टीम हरकत में आ गई। गुरारु के नवपदस्थापित सीओ संजीव कुमार त्रिवेदी व पुलिस पदाधिकारी छेदीलाल चौधरी ने वरोरह गांव पहूंच कर मृतक संदीप यादव के पिता शिव विजय यादव व कजरैला गांव पहूंच कर मृतक रामचंद्र यादय के भाई सह युवा राजद के प्रखंड अध्थक्ष बालेश्वर यादव से मिले।

अधिकारियों ने उक्त लोगों से पारिवारिक लाभ योजना की 20 हजार रुपये की सहायता राशि का चेक लेने के लिए कहा। लेकिन पीड़ित, प्रशासन पर सहायता राशि देने में देरी करने व.बीडीओ के नहीं आने से नाराजगी की बात कह कर चेक लेने से इनकार कर दिया। जिसके बाद उक्त अधिकारियों ने पीड़ित परिवार को समझाने का काफी प्रयास किया। अंततः उन्हें वापस लौटना पड़ा ।