बिहार में कोविड-19 ! सामने आएं इतने नए मामले, बच्ची समेत इतने लोगों की मौत

बिहार में कोविड-19 ! सामने आएं इतने नए मामले, बच्ची समेत इतने लोगों की मौत

बिहार में सोमवार को कोरोना वायरस से 4,737 नए मामले सामने आए और छह साल की बच्ची समेत पांच लोगों की मौत हो गई। इस दौरान प्रदेश के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की कोरोना रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है। उन्होंने खुद को आइसोलेट कर लिया है। 



सीएम नीतीश कुमार उनके मंत्री तारकिशोर प्रसाद, रेणु देवी, अशोक चौधरी, शाहनवाज हुसैन और सुनील कुमार के अलावा पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी भी कोरोना वायरस से संक्रमित हो चुके हैं। स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी बुलेटिन में कहा गया है कि ताजा मामलों के बाद राज्य में कोरोना वायरस के सक्रिय मरीजों की कुल संख्या बढ़कर 20,938 हो गई है, जबकि मौतों की संख्या बढ़कर 12,106 हो गई है। बुलेटिन में कहा गया है कि सोमवार को संक्रमण के नए मामलों की संख्या राज्य में रविवार को दर्ज किए गए 5022 मामलों से कम थी।

जानकारी के अनुसार, राज्य की राजधानी पटना में सोमवार को कोविड-19 के 2566 नए मामले दर्ज किए गए, जबकि रविवार को यहां 2,108 नए मामले दर्ज हुए थे। यह एक दिन दर्ज हुए मामलों की अब तक की सबसे अधिक संख्या है। बिहार सरकार ने स्वास्थ्य क्षेत्र से जुड़े लोगों और फ्रंटलाइन वर्कर्स और बुजुर्गों को कोविड-19 वैक्सीन की बूस्टर खुराक देना शुरू किया है। बुलेटिन में कहा गया है कि रविवार को राज्य का कुल केस लोड 7,50,137 था।

सोमवार को दर्ज की गई सभी पांच मौतें पटना शहर में ही हुई हैं। इनमें से तीन पटना एम्स में और एक-एक पीएमसीएच और आईजीआईएमएस में दर्ज हुई। पटना एम्स में कोरोना की वजह से छह साल की बच्ची की मौत हुई। यहां उसे इलाज के लिए भर्ती कराया गया था और शनिवार को उसका कोरोना वायरस टेस्ट पॉजिटिव आया। स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि रविवार को उसकी मौत हो गई। अधिकारी ने कहा कि एक 50 वर्षीय व्यक्ति जिसका पटना एम्स में ही गुर्दे का ऑपरेशन हुआ था, उसकी जांच रिपोर्ट भी सकारात्मक आई थी और बीते रविवार को उसकी मृत्यु हो गई थी।

राज्य में अब तक ओमिक्रॉन वैरिएंट के एक मामले की पुष्टि हुई है। एक अधिकारी ने कहा कि पिछले 24 घंटों में 691 लोगों ने महामारी को मात दी है और वह अब इससे उबर चुके हैं। इसके साथ ही राज्य में अब तक कुल 71,70,92 लोग ठीक हुए हैं। रविवार को रिकवरी रेट 96.11 फीसदी था।

गया में सक्रिय मामलों की संख्या 1,119 है, इसके बाद मुजफ्फरपुर में 956, बेगूसराय में 602 और सारण में 471 मामले हैं। अधिकारी ने कहा कि सोमवार को सकारात्मकता दर 3.13 प्रतिशत थी, जो शनिवार तक दो प्रतिशत से भी कम थी। उन्होंने कहा कि पिछले 24 घंटों में 1.51 लाख नमूनों सहित अब तक कुल 6.25 करोड़ नमूनों का परीक्षण किया जा चुका है।


बिहार दर्दनाक हादसा! SBB कैंप पर गिरा हाई वोल्टेज तार, इतने जवानो की मौत

बिहार दर्दनाक हादसा! SBB कैंप पर गिरा हाई वोल्टेज तार, इतने जवानो की मौत

बिहार के सुपौल जिले में एसएसबी की 45वीं बटालियन के वीरपुर कैंप में शुक्रवार को एक बड़ा हादसा हो गया। यहां हाई वोल्टेज तार की चपेट में आने से तीन ट्रेनी जवानों की मौत हो गई, जबकि आठ झुलस कर घायल हो गए। इसमें से चार घायलों को डीएमसीएच रेफर कर दिया गया है। हादसे के बाद कैंप में अफरा तफरी का माहौल है।  



तीनों की मौके पर ही हुई मौत
मृतकों में महाराष्ट्र निवासी अतुल पाटिल (30 वर्ष), परशुराम सबर (24 वर्ष) और महेंद्र चंद्र कुमार बोपचे (28 वर्ष) हैं। इनकी मौके पर ही मौत हो गई थी। वहीं घायल जवान नरसिंह चौहान, के चंद्रशेखर, परितोष अधिकारी, मांडवे राजेंद्र, मोहम्मद शमशाद, सुकुमार वर्मा, सोना लाल यादव और आनंद किशोर को अनुमंडल अस्पताल लाया गया है। प्रारंभिक इलाज के बाद चार घायल जवानों को रेफर कर दिया गया है। 

टेंट उतारते समय पाइप से छू गया तार 
जानकारी के मुताबिक, वीरपुर कैंप में 45वीं बटालियन के कमांडेंट एचके गुप्ता का ट्रांसफर हो गया। इसी सिलसिले में बुधवार सुबह उनकी विदाई समारोह का आयोजन किया गया था। यहां टेंट और तंबू लगाया गया था। कार्यक्रम समाप्त होने के बाद शुक्रवार दोपहर करीब साढ़े बारह बजे ट्रेनी जवानों को टेंट खोलने के लिए लगाया गया। इसी दौरान ऊपर से गुजर रहे हाई वोल्टेज तार से टेंट का एक पाइप छू गया और करंट पूरे टेंट में उतर आया। एक साथ काम कर रहे सभी जवान इसकी चपेट में आ गए। इस हादसे के बाद वीरपुर कैंप में हड़कंप मच गया।